• Sun. May 16th, 2021

    Udaipur News

    Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

    Udaipur Latest News 11 April 2021| उ द य पु र की ता जा ख ब र News 11 April 2021 | उदयपुर की ताजा ख उ द यपु र की ता जा News 11 April 2021 | उदयपुर की ताजा खबर

    Byadmin

    Apr 11, 2021
    0 0
    Read Time:20 Minute, 3 Second
    • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर हैं आज की अपडेट्स लेकर…
    • चार दिवसीय टीका उत्सव आज से शुरू।टीका उत्सव के मौके पर प्रधानमंत्री ने चार अपील की है उन्होंने कहा कि लोग टीका लगवाने में उन लोगों की मदद करें जिन्हें जरूरत है कोरोना उपचार में लोगों की मदद करें मास्क पहने और दूसरों को इसके लिए प्रेरित करें अगर कोई व्यक्ति पॉजिटिव पाया जाता है तो उसके लिए छोटा कंटेंटमेंट जोन बनाएं।
    • आज विश्व पार्किंसन दिवस है इसका आयोजन पार्किंसन के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से किया जाता है। इसरोग के कारण चलने फिरने की गति धीमी हो जाती है मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं और शरीर में कंपन की समस्या पैदा हो जाती है। इस समय दुनिया भर में करीब 1 करोड़ से अधिक लोग पार्किंसन से ग्रस्त हैं। इसके इलाज के लिए कई दवाइयां उपलब्ध हैं संतुलित आहार और व्यायाम के अभ्यास से पार्किंसन से बचा जा सकता है।
    • प्रिंस फिलिप का अंतिम संस्कार विंडसर कासल में 17 अप्रैल को होगा। ड्यूक ऑफ एडिनबर्ग का शुक्रवार को 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया था।
    • क्वेरी
      कई लोगों को वैक्सीन एक मैजिक डोज लगती है जिसे लगाने के बाद वायरस का संक्रमण नहीं होगा ?
      विशेषज्ञ बताते हैं कि हां कई लोगों को लगता है कि वैक्सीन लगाने के बाद कभी कोरोना नहीं हो सकता है । ऐसा नहीं है इसे ऐसे समझ सकते हैं एक होता है इफेक्ट होना और दूसरा बीमार होना ।वैक्सीन का प्रारंभिक रोल बीमार होने से बचाना है यानी अगर आप बीमार होते हैं तो यह सिवियरिटी कम करेगी लेकिन वैक्सीन के बाद इन्फेक्शन फिर भी हो सकता है ‌। वैक्सीन का अर्थ यह नहीं है कि आप इनफैक्ट नहीं होंगे यह आपको बीमार होने से बचाएगी ।कोई भी वैक्सीन 100% तक प्रभावी नहीं है इस बात का भी ध्यान रखा है कि अगर कोई इनफेक्टेड है तो दूसरे में ट्रांसमिशन भी कर सकता है इसलिए मास्क पहने सुरक्षित दूरी बनाए रखें और हाथ साफ करते रहें।
    • टीकाकरण के बाद अगर संक्रमित हो जाए तो टीका कितना मददगार होता है संक्रमण से लड़ने में?
      जानकार बताते हैं जब महामारी शुरू हुई तो लोगों के मन में एक सवाल था कि वैक्सीन कब आएगी ।जब वेक्सीन आई तब देश में कम केस हो गए इस वजह से लोगों के मन में बीमारी का डर कम हो गया अब जैसे जैसे केस बढ़ रहे हैं लोगों को समझना होगा कि वैक्सीन जान बचा सकती है इसलिए वायरस से डरे वैक्सीन से नहीं क्योंकि वैक्सीन लगने के बाद अगर आप इनफेक्टेड होते हैं तो यह आपको वेंटिलेटर पर जाने से बचाएगी ऐसे लोग जो गंभीर रूप से संक्रमित हो जाते हैं उन्हें भी वेक्सीन से इम्यूनिटी मिलेगी।
    • वैक्सीन कब तक सभी को लगती रहेगी?
      विशेषज्ञ कहते हैं वायरस को देखकर लगता है कि वह इतनी जल्दी जाने वाला नहीं है इसलिए कह सकते हैं कि जिस तरह से अन्य सीजनल फ्लू के लिए वैक्सीन लगती है कोरो ना के लिए भी लगेगी। हालांकि समय के साथ स्थिति और साफ होगी लेकिन मान कर चलिए कि अगले दो-तीन साल तक तो वैक्सीन की डोज लगती रहेगी।
    • क्या अब समय आ गया है कि 45 साल से कम उम्र के लोगों को भी वैक्सीन दी जाए?
      विशेषज्ञ कहते हैं जिस तरह से कोविड-19 के केस आ रहे हैं उनका संबंध वैक्सीन देने से नहीं है जिसे इस ग्रुप के लिए वैक्सीन दी जा रही है उन्हें वैक्सीन पहले दी जानी जरूरी है क्योंकि ऐसे लोगों को इसमें टारगेट किया गया है जिनमें गंभीरता ज्यादा होती है और संक्रमण का खतरा अधिक है अगर इन्हें छोड़कर साथ में सभी एज ग्रुप के लोगों को वैक्सीन दी जाने लगेगी तो सभी को एक साथ वैक्सिन देने में समस्या आ सकती है और जो जरूरी है वह छूट सकते हैं इससे स्थिति खराब हो सकती है इसलिए एक एक चरण के आधार पर लोगों तक वैक्सीन पहुंचाई जा रही है इसके अलावा सरकार की कोशिश है कि जल्द से जल्द सभी को इसमें शामिल किया जाए अगर केस की बात करें तो कहीं ना कहीं लोगों की लापरवाही की वजह से इतने केस बढ़ रहे है इसलिए सभी को नियमों का पालन करने को कहां जा रहा है।
    • रात में कर्फ्यू से क्या फायदा क्योंकि भीड़ दिन में ज्यादा होती है
      विशेषज्ञ कहते हैं यह सरकार और प्रशासन की एक स्ट्रेटजी होती है क्योंकि पूरी तरह लॉकडाउन नहीं लगा सकते इसलिए जो पहले कम जरूरी होते हैं उन पर रोक लगाते हैं इससे एक तरह की है वार्निंग या अपील कह सकते हैं कि लोग वायरस के खिलाफ सतर्क रहें आप देख सकते हैं बहुत जरूरी होता है तभी कर्फ्यू लगाया जाता है जब तक जनता का सहयोग नहीं होगा कोरोना को नहीं हरा पाएंगे पूरी तरह से लॉकडाउन ना लगाना पड़े इसलिए लोगों को समझना होगा कि दिन या रात को बेवजह श बाहर ना जाए मास्क लगाएं और नियमों का पालन करें ।
    • देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 152 879 मामले दर्ज किए गए।
    • देश में कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने आज से रेमदेसीविर दवा के निर्यात पर पाबंदी लगा दी है और दबा के घरेलू निर्माताओं को निर्देश दिए हैं कि वे अपनी वेबसाइट पर इस दवा के स्टॉक और इसके डिस्ट्रीब्यूटर की जानकारी सार्वजनिक दें साथ ही ड्रग इंस्पेक्टर और अन्य अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे इनके स्टॉक की जांच करें और कालाबाजारी रोकने के लिए कार्रवाई करें।यह आदेश देश में कोविड-19 के हालात सुधरने तक लागू रहेगा। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के इलाज में इस दवा को जरूरी समझा जाता है और कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण इसकी मांग भी बढ़ी है। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में इसकी मांग में और इजाफा हो सकता है। अमेरिका की गिलियर्ड साइंसेस के समझौते के तहत देश में 7 कंपनियां इस इंजेक्शन को बनाती हैं।
    • पिछले साल कोरो ना के चलते देश में अचानक लॉकडाउन लगने पर लाखों प्रवासी मजदूरों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा कोरोना को रोकने के लिए रातों रात कामकाज पर रोक लग गई इससे दिहाड़ी मजदूर बेरोजगार हो गए और डर और निराशा के माहौल में सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय कर अपने घरों की ओर चल पड़े। अब एक बार फिर देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं प्रवासी मजदूरों को लॉक डाउन का डर फिर सताने लगा है।
    •  श्रमिक स्पेशल ट्रेन नहीं चल रही है और ना ही चलाने की योजना है।
    • कोरोना की दूसरी लहर पहली के मुकाबले ज्यादा ताकतवर लग रही है और इसे काबू करने की कोशिशें फिलहाल नाकाफी साबित हो रही है ऐसे मे लॉकडाउन की चर्चा फिर शुरू हो गई है हालांकि उद्योग जगत के अनुसार आंशिक लॉकडाउन भी काफी नुकसानदेह साबित होगा इससे श्रमिकों के साथ-साथ वस्तुओं की आवाजाही पर प्रभाव पड़ेगा और औद्योगिक उत्पादन पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है सुझाव दिया गया है कि कोविड- प्रभावित जगहों पर सूक्ष्मा स्तरीय नियंत्रण की रणनीति के साथ-साथ संक्रमण से बचने की उपयुक्त व्यवहार अपनाने से संक्रमण पर काबू पाने में मदद मिलेगी। उद्योग मंडल के करीब 67% लोगों पाबंदियों के प्रभाव को कम करने के लिए पात्र लोगों के टीकाकरण के लिए सरकार के साथ मिलकर काम करने की इच्छा जताई है।
    • आज देश में एक्टिव मामलों की संख्या 11 लाख के पार हो गई है।
    • जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए कोरोना वार रूम को फिर से एक्टिव कर दिया गया है। यह वार रूम 24 घंटे सातों दिन काम करेगा और corona प्रोटोकोल की पालना से संबंधित किसी भी समस्या के समाधान के लिए वार रूम में अधिकारी कर्मचारी हर समय मौजूद रहेंगे इसके लिए नंबर जारी किए गए हैं यह पांच फोन नंबर है- 0294 24146 20
      2413122
      24 23703
      24 0028
      241124 वहीं मेडिकल कंट्रोल रूम के मोबाइल नंबर है 6367 304 312
      साथ ही ईमेल आईडी है कंट्रोल रूम डॉट यू डी आर ए ट दि रेट gmail.com।
    • Corona update Rajasthan today
      New cases:5105
      Cumulative positive:3,63,793
      Active cases:31,986
    • Corona update udaipur today
      New cases:8️⃣6️⃣4️⃣
      Cumulative positive: 17039
      Cumulative discharged:13,145
      Active cases:3747
      Home isolated:3094
    • मुख्यमंत्री ने आज चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना और कोविड-19 को लेकर पंचायत स्तर तक के जनप्रतिनिधियों अधिकारियों कर्मचारियों के साथ बात की और कहा कि कोरोना का बदला मिजाज पहले से अधिक घातक और खतरनाक है हमें इसे रोकने के लिए सभी को मिलकर corona.प्रोटोकोल की पालना करनी होगी इसमें सभी जनप्रतिनिधियों सामाजिक कार्यकर्ताओं धर्मगुरुओं सहित सभी वर्गों का सहयोग आवश्यक है।
    • इससे पूर्व हुई बैठक में भी उन्होंने लोगों से हेल्थ प्रोटोकॉल की पालना करने को कहा क्योंकि हालात संक्रमण बढ़ने पर और अधिक बिगड़ जाएंगे जैसा कि कई राज्यों में स्थिति बेकाबू हो रही है। उन्होंने कहा कि कई स्थानों पर कोविड-19 टीका करण का काम रोकना पड़ सकता है शनिवार को कई जिलों में वैक्सीन खत्म हो गई है। सरकार ने आज वैक्सीन की 400000 डोज उपलब्ध कराने की बात कही है जो कि प्रदेश मे 1 दिन के लिए भी पर्याप्त नहीं होंगे इसलिए वैक्सीन की डोज लगा देने के बाद भी 11 से 14 अप्रैल के टीका उत्सव में राजस्थान शामिल कैसे हो सकेगा। वहीं दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए लोगों को स्वयं स्वास्थ्य अनुशासन की पालना करना बेहद जरूरी है अन्यथा सरकार सख्त कदम उठाने को मजबूर होगी। मुख्यमंत्री ने कहा जिस तरह पिछले वर्ष सभी वर्गों समुदायों ने राज्य सरकार को सहयोग दिया और स्वास्थ्य नियमों और अन्य दिशा निर्देशों की पालना की उसी भावना और समर्थन की फिर से आवश्यकता है वहीं वरिष्ठ अधिकारियों ने संक्रमण की तेज गति को नियंत्रित करने के लिए आगामी दिनों में कदम उठाने के कुछ सुझाव दिए । मुख्यमंत्री ने सभी जिलों में स्थानीय प्रशासन क्षेत्र के प्रभावशाली लोगों के साथ बैठक कर समझाइश और सख्ती के माध्यम से आमजन से स्वास्थ्य नियमों की पालना करवाने की रणनीति बनाने के निर्देश दिए और कहा कि अगले एक-दो दिन में सभी कलेक्टर विभिन्न व्यापारी और व्यावसायिक संगठनों धार्मिक स्थलों के प्रबंधकों और अन्य प्रभावशाली लोगों के साथ बैठके करें और पुलिस अधिकारी भी थाने के स्तर तक सीएलजी के सदस्यों के साथ आवश्यक रूप से बैठके कर कोविड-19 प्रोटोकॉल की पालना में उनका सहयोग लेना सुनिश्चित करें। वही उदयपुर में सबसे तेज गति से संक्रमण फैलने के कारण रात्रिकालीन कर्फ्यू शाम 6:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक 12 घंटे के लिए लगाया गया है उदयपुर में हर तीसरा व्यक्ति संक्रमित पाया जा रहा है ऐसे में लोग हेल्थ प्रोटोकॉल की गंभीरता से पालना करें।
    • आज जिला कलेक्टर ने जिला परिषद सभागार में निजी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के प्रतिनिधियों से चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश जारी करते हुए कहा कि उदयपुर में संक्रमण की वर्तमान स्थितियों को देखते हुए निजी अस्पतालों में बेड बढ़ाने की आवश्यकता है और सभी निजी अस्पतालों को कोविड-19 मरीजों के लिए बेड आरक्षित रखने हैं उन्होंने ऑक्सीजन की आपूर्ति आईसीयू और वेंटिलेटर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और कहा कि अस्पतालों में ऐसी सर्जरी जिसे टाला जा सकता है अभी टाल दिया जाए हमारी प्राथमिकता अभी कोरोना सकमण नियंत्रित करना है।
    • वही अब नाइट कर्फ्यू के दौरान रेस्टोरेंट्स ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म के माध्यम से रात 8:00 बजे तक ही टेक अवे और डिलीवरी कर सकते हैं साथ ही रेस्टोरेंट में कार्यस्थल संबंधी कोविड-19 कॉल की पालन अनिवार्य होगी अन्यथा रेस्टोरेंट को सीज कर दिया जाएगा।
    • उदयपुर में कोरोनावायरस लगाम के लिए सभी तरह के उपाय अमल में लाए जा रहे हैं जिला स्तर से लेकर पंचायत स्तर तक के कार्मिकों को दायित्व दिए जा रहे हैं और कोविड-19 टोकोल की अनुपालन सुनिश्चित कराने को पाबंद किया जा रहा है।
    • आज जिला कलेक्टर ने सभी धार्मिक नेताओं के साथ बैठक की और शहर में तेजी से बढ़ते संक्रमण को लेकर चर्चा की धार्मिक नेताओं ने कल से आगामी 10 दिनों के लिए सभी धर्मों के धार्मिक स्थलों को श्रद्धालुओं के लिए बंद रखने पर सहमति जताई कलेक्टर ने कहा कि हम नहीं चाहते शहर में दोबारा लॉकडाउन लगे इसलिए स्वप्रेरणा और अनुशासन से ही लॉकडाउन का पालन करना सबके हित में रहेगा इस दौरान विभिन्न धार्मिक स्थलों पर पुजारियों मौलवियों पादरी और गुरुद्वारा आदि की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार संबंधित व्यक्ति को प्रशासन द्वारा पास जारी किया जाएगा आमजन के लिए धार्मिक स्थलों पर प्रवेश पूरी तरह वर्जित रहेगा।
    • बैठक के दौरान ये निर्णय लिया गया कि सभी मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे को decongestion जोन घोषित करते हुए वहा केवल विधिवत पूजा अर्चना की जायेगी। आम लोगो हेतु सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे।

      कर्फ्यू समय के दौरान पूजा अर्चना हेतु पुजारियों को अतिरिक्त पास की व्यवस्था की जायेगी ताकि पूजा स्थलों पर विधिवत पूजा अर्चना में कोई बाधा ना आये।

      रमजान के महीने में नमाज अदा करने हेतु मस्जिदों में लोगो की संख्या(3 से 5) निर्धारित की जायेगी।

      आने वाले दिनों में त्योहारो को सांकेतिक रूप से मनाया जायेगा। चेटीचंड एवं गणगोर पर जुलुस/यात्रा ना निकालकर 3 से 5 लोग ही अनुष्ठान को पूरा करेंगे।

      बैठक में सिक्ख समाज की तरफ से कहा गया कि बैसाखी पर्व पर गुरुद्वारों में आयोजित सामूहिक लंगर को पहले ही निरस्त किया जा चूका है एवं सभी लोगो से आह्वान किया गया है कि त्यौहार सादगी से मनाए।

    • आईपीएल क्रिकेट में आज शाम कोलकाता नाइट राइडर्स का मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद से।
    • मौसम
      मौसम विभाग के अनुसार 14 अप्रैल से एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा जिससे 14 ,15 और 16 अप्रैल को जोधपुर और बीकानेर संभाग के कई जिलों में धूल भरी आंधी और हल्की बारिश की संभावना है। उदयपुर में आज का तापमान रहा अधिकतम 37 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 22 डिग्री सेल्सियस
    • तो ये थीं अब तक की अपडेट्स, हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…
    Happy
    Happy
    0 %
    Sad
    Sad
    0 %
    Excited
    Excited
    0 %
    Sleppy
    Sleppy
    0 %
    Angry
    Angry
    0 %
    Surprise
    Surprise
    0 %

    Average Rating

    5 Star
    0%
    4 Star
    0%
    3 Star
    0%
    2 Star
    0%
    1 Star
    0%

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *