• Fri. May 7th, 2021

    Udaipur News

    Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

    Udaipur Latest News 18 october 2020 | उदयपुर की ताजा खबर | Udaipur Latest News 18 october 2020 | उदयपुर की ताजा खबर

    Byadmin

    Oct 18, 2020
    0 0
    Read Time:11 Minute, 47 Second
    • हेलो फ्रेंड्स, हम हाजिर हैं आज के अपडेट्स लेकर ….
    • देश मे कोविड19से स्वस्थ हो गए रोगियों की कुल संख्या 65 लाख97 हजार से अधिक हो गई है ।इस तरह इस महामारी से ठीक होने की दर 88% हो गई है। मृत्यु दर 1.52% है‌ वहीं देश में 7 लाख83 हजार रोगियों का इलाज चल रहा है। पिछले 24 घंटों में 72 हजार से अधिक रोगी इस महामारी से स्वस्थ हुए हैं। और 61,871 नए मामले सामने आए हैं। देश में संक्रमित लोगों की कुल संख्या 74 लाख से अधिक हो गई है।
    • क्वेरी
      शरीर में कोविड-19 के संक्रमण के असर में क्या परिवर्तन आए हैं?
      विशेषज्ञ बताते हैं। शुरू में यह केवल शवसन रोग माना गया। लेकिन अब इसे मल्टी ऑर्गन डिजीज कहते हैं। यानी पहले इसका असर फेफड़ों पर देखा जा रहा था ।पर अब यह वायरस लीवर और किडनी पर भी हमला कर रहा है जिन लोगों को किसी प्रकार की बीमारी है उनके लिए यह ज्यादा खतरनाक है।
    • कोविड-19 के मामलों का ग्राफ नीचे जा रहा है इस पर क्या कहेंगे?
      विशेषज्ञ बताते हैं कोरोना का ग्राफ नीचे जाने का मतलब यह नहीं कि सब ठीक है, अभी भी स्थिति गंभीर है और जरा सी चूक फिर से ग्राफ को ऊपर ले जा सकती है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए हमें इन त्यौहारों और सर्दी के मौसम में ज्यादा सावधान रहना होगा।
    • नवरात्र के दूसरे दिन कोविड के दिशा-निर्देशों के अनुसार मंदिरों में पूजा-अर्चना जारी
    • आदि शक्ति दुर्गा की पूजा का पावन पर्व नवरात्रि के 9 दिन देवी के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि के दूसरे दिन मां के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। जिन्हें समस्त विद्याओं की ज्ञाता माना जाता है। माना जाता है कि इनकी आराधना से अनंत फल की प्राप्ति, तप ,त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम, जैसे गुणों की वृद्धि होती है। मां श्वेत वस्त्र पहने हुए हाथ में अष्ट दल की माला और कमंडल लिए सुशोभित हैं क।हा जाता है कि जब वह अपने पूर्व जन्म में पार्वती स्वरूप थी तब भगवान शिव को पाने के लिए 1000 साल तक सिर्फ फल खा कर रही और 3000 साल तक पर पेड़ों से गिरी पत्तियां खाकर शिव की तपस्या की। इसी कारण उन्हें ब्रह्मचारिणी कहा गया।
      कल दुर्गा मां की तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना होगी ।मां चंद्रघंटा मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र धारण किए हुए है ।देवी का यह तीसरा स्वरूप भक्तों का कल्याण करता है। इन्हें ज्ञान की देवी भी कहा गया है। बाघ पर सवार है मां चंद्रघंटा, जिनके चारों तरफ अद्भुत तेज है। इनके शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है। इनके हाथों में कमल, धनुष बाण ,कमंडल, तलवार, त्रिशूल और गदा जैसे अस्त्र-शस्त्र है। कंठ में सफेद फूलों की माला है। यह साधकों को चिरायु, आरोग्य, सुखी और संपन्न होने का वरदान देती है और दुष्टों का संहार करती है।
      चौथा स्वरूप है मां कुष्मांडा का, जो रोग शोक और विनाश से मुक्त करके आयु, यश बल और बुद्धि देती है। यह बाघ की सवारी करती है। अष्ट भुजाधारी है मस्तक पर स्वर्ण मुकुट पहने उज्जवल स्वरूप वाली मां दुर्गा है जिनके हाथ में कमंडल ,कलश, कमल, सुदर्शन चक्र, गदा ,धनुष बाण और अक्षमाला है ।मंद मुस्कान से ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडाडा पड़ा ।कहा जाता है जब दुनिया नहीं थी और हर तरफ सिर्फ अंधकार था ऐसे में देवी ने अपनी हल्की सी हंसी से ब्रह्मांड की उत्पत्ति की। ये सूरज के घेरे में रहती हैं और इन्हीं मे इतनी शक्ति है जो सूरज की तपिश को सहन कर सकें ।माना जाता है कि यह जीवन की शक्ति प्रदान करती है
      दुर्गा मां का पांचवा स्वरूप है स्कंदमाता का यह भगवान स्कंद यानी कार्तिकेय की माता होने के कारण इस स्वरूप को स्कंदमाता के नाम से जाना जाता है। ये कमल के आसन पर विराजित है इसीलिए इन्हें पद्मासन देवी भी कहा जाता है। इनका वाहन सिंह है इन्हें कल्याणकारी शक्ति की देवी कहते हैं ।यह दोनों हाथों में कमल लिए हुए गोद में ब्रह्म स्वरूप सनत कुमार को थामे हुए हैं ।दुर्गा मां का छठा स्वरूप है कात्यायनी मां का, ये देवताओं और ऋषि यों के कार्य को सिद्ध करने के लिए महर्षि कात्यायन के आश्रम में प्रकट हुई थी, उनकी पुत्री होने के कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ा ।यह दानवोऔर पापियों का नाश करती हैं ।वैदिक युग में यह ऋषि-मुनियों को कष्ट देने वाले दानवोंको देखते ही नष्ट कर देती थी। यह सिंह पर सवार चार भुजाओं वाली और सुसज्जित आभा मंडल वाली देवी हैं, जिनके बाएं हाथ में कमल और तलवार और दाएं हाथ में स्वस्तिक और आशीर्वाद की मुद्रा है ।
      दुर्गा का सातवां स्वरूप कालरात्रि है जो देखने में भयानक है लेकिन सदैव शुभ फल देने वाला होता है । इन्हें शुभंकरी कहा जाता है ।कालरात्रि केवल शत्रु और दुष्टों का संहार करती है ।यह काले रंग रूप वाली केशो को फैला कर रखने वाली, और चार भुजाओं वाली मां है। यह वर्ण और वेश में अर्धनारीश्वर शिव की तांडव मुद्रा में नजर आती हैं ।इनकी आंखों से अग्नि की वर्षा होती। है ।एक हाथसे शत्रुओं की गर्दन पकड़ कर दूसरे हाथ में खड़ग तलवार से उसका नाश करने वाले कालरात्रि विराट रूप में विराजमान हैं ।इनकी सवारी एक गधा है जो समस्त जीव जंतुओं में सबसे अधिक परिश्रमी माना गया है।
      नवरात्रि के आठवें दिन दुर्गा के आठवें रूप महागौरी की पूजा-अर्चना होती है। देवी ने कठिन तपस्या करके गोरवरण प्राप्त किया था। कहा जाता है कि उत्पत्ति के समय 8 वर्ष की आयु होने के कारण नवरात्रि के आठवें दिन इनकी पूजा होती है। भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप है इसलिए अष्टमी के दिन कन्याओं के पूजन का विधान है। यह धन, वैभव ,सुख शांति की अधिष्ठात्री देवी है। इनका स्वरूप उज्जवल कोमल, श्वेत वर्णऔर श्वेत वस्त्र धारी है। इनके हाथ में त्रिशूल दूसरे में डमरु है ‌गायन और संगीत से प्रसन्न होने वाली महागौरी सफेद वृषभ यानि बैल पर सवार हैं।
      नवरात्रि के 9वे सिद्धिदात्री मां की पूजा-अर्चना होती है ,जो सभी सिद्धियां देने वाली हैं ।इनकी उपासना से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कमल के आसन पर विराजमान देवी हाथों में कमल, शंख, गदा, सुदर्शन चक्र लिए हुए हैं। सिद्धिदात्री देवी सरस्वती का भी रूप है जो श्वेत वस्त्रों से युक्त महा ज्ञान और मधुर स्वर से भक्तों को सम्मोहित करती हैं।
    • आवाज से भी अधिक रफ्तार से उड़ान भरने वाली सुपरसोनिक’ ब्रह्मोस’ क्रूज मिसाइल का आज भारतीय नौसेना के विध्वंसक पोत आईएनएस चेन्नई से सफल परीक्षण किया गया। परीक्षण में ब्रह्मोस ने अरब सागर स्थित ठिकाने पर निशाना लगाया।
    • कहते हैं किस्मत के सितारों को अगर कोई मार दे सकता है तो वह सिर्फ हुनर और इसी बात को साबित करते थे अभिनेता ओमपुरी। जीवन की शुरुआत में चाय के कप धोने काम काम भी किया लेकिन अपने हुनर और दमदार अभिनय के दम पर बॉलीवुड ही नहीं हॉलीवुड में भी अपना नाम कमाया ।लेकिन अभिनय के अलावा कई विवादों में भी वे रहे। साल 1950 में 18 अक्टूबर को जन्मे ओमपुरी का आज जन्मदिन है ।अपने लुक्स को लेकर मिलने वाली आलोचनाओं पर वह हमेशा बोलते रहे। उन्होंने तकरीबन 40 साल तक हिंदी सिनेमा में काम किया। मराठी फिल्म घासीराम कोतवाल 1976 से अपना करियर शुरू किया और साल 2017 तक अभिनय करते रहे। उनका बचपन काफी गरीबी में बीता और लंबे संघर्ष के बाद उन्होंने यह सफलता हासिल की। सलाम
    • आईपीएल क्रिकेट में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने राजस्थान रॉयल्स को 7 विकेट से हराया। फिल्मी सितारों द्वारा अभिनीत रामलीला अयोध्या में लक्ष्मण किला में शुरू। इसका सीधा प्रसारण दूरदर्शन पर हो रहा है ।यह 25 अक्टूबर तक हर रोज शाम 7:00 से प्रसारित होगी।
    • विश्वभर में कोविड-19 सकमितो की संख्या 3 करोड़ 78 लाख 80 हजार के पास‌
      आईपीएल 2020 कोलकाता नाइट राइडर्स ने हैदराबाद को दी 164 रन की चुनौती।
    • शहर के सुधार वाडा में हर वर्ष सजने वाला मां का दरबार भी इस बार कोविड-19 के कारण नहीं सजा है।
    • सर्व मंगल मांगल्ए शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ए त्र्यंबके गौरी नारायणी नमो नमः।।
    • ये थी अब तक की अपडेट्स,हम आएंगे और अपडेट्स लेकर, बने रहिए हमारे साथ…..
    Happy
    Happy
    0 %
    Sad
    Sad
    0 %
    Excited
    Excited
    0 %
    Sleppy
    Sleppy
    0 %
    Angry
    Angry
    0 %
    Surprise
    Surprise
    0 %

    Average Rating

    5 Star
    0%
    4 Star
    0%
    3 Star
    0%
    2 Star
    0%
    1 Star
    0%

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *