• Sun. Jun 16th, 2024

Udaipur News

Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

Udaipur Latest News 22 August 2023 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur Latest News 22 August 2023 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur Latest News 22 August 2023 उदयपुर की ताजा खबर

Byadmin

Aug 22, 2023
  • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर हैं आज की अपडेट्स लेकर…..
  • विश्‍व कल के उस ऐतिहासिक क्षण की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहा है जब चंद्रयान-3 का लैंडर मॉड्यूल भारतीय समयानुसार लगभग शाम छह बजकर चार मिनट पर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने का प्रयास करेगा। सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन-इसरो ने कहा है कि चंद्रयान-3 मिशन कार्यक्रम के अनुसार चल रहा है और चांद के चारों ओर सहजता से चक्‍कर लगा रहा है। बेंगलुरु में मिशन ऑपरेशन परिसर में गतिविधियां बढ गई हैं क्योंकि लैंडर विक्रम के अंतिम चरण की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। लैंडर विक्रम के अंदर रोवर प्रज्ञान है। इसरो ने लगभग 70 किलोमीटर की ऊंचाई से लैंडर के कैमरे से भेजी गई चांद की तस्वीरें जारी की हैं। ये तस्‍वीरें लैंडर मॉड्यूल विक्रम में मौजूद चांद के मानचित्र के साथ मिलान करते हुए  उतरने की जगह के बारे में पता लगाने में मदद करेंगी।
  • भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के चंद्रयान-3 को चांद की सतह पर पहुंचने में अब सिर्फ कुछ घंटे शेष हैं.
  •  23 अगस्त यानी कल शाम लगभग छह बजे चंद्रयान-3 चांद की सतह पर उतर सकता है.इसरो के इस मिशन पर भारत ही दुनिया भर के वैज्ञानिकों के साथ-साथ आम लोगों की नज़रें टिकी हुई हैं.चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग के साथ ही लोगों की चंद्रमा में दिलचस्पी बढ़ती नज़र आ रही है.

  • पूर्णिमा के दिन चंद्रमा बिलकुल गोल नज़र आता है.लेकिन असल में एक उपग्रह के रूप में चंद्रमा किसी गेंद की तरह गोल नहीं है.ये अंडाकार है.ऐसे में जब चांद की ओर देख रहे होते हैं तो आपको इसका कुछ हिस्सा ही नज़र आता है.

    इसके साथ ही चांद का भार भी उसके ज्यामितीय केंद्र में नहीं है.ये अपने ज्यामितीय केंद्र से 1.2 मील दूर है.अगर आप कभी भी चांद देखते हैं तो  उसका अधिकतम 59 फीसद हिस्सा देख पाते हैं.चांद का 41 फीसद हिस्सा धरती से नज़र नहीं आता.अगर अंतरिक्ष में जाएं और 41 फीसद क्षेत्र में खड़े हो जाएं तो  धरती दिखाई नहीं देगी.

    माना जाता है कि चंद्रमा से जुड़ा ‘ब्लू मून’ शब्द साल 1883 में इंडोनेशियाई द्वीप क्राकातोआ में हुए ज्वालामुखी विस्फोट की वजह से इस्तेमाल में आया.इसे पृथ्वी के इतिहास के सबसे भीषण ज्वालामुखी विस्फोटों में गिना जाता है.कुछ ख़बरों के मुताबिक़, इस धमाके की आवाज़ पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में स्थित शहर पर्थ, मॉरीशस तक सुनी गई थी.इस विस्फोट के बाद वायुमंडल में इतनी राख फैल गई कि राख भरी रातों में चांद नीला नज़र आया. इसके बाद ही इस टर्म की शुरुआत मानी जाती है.

    चीन में एक प्राचीन धारणा है कि ड्रैगन के सूर्य को निगलने की वजह से सूर्य ग्रहण होता है.इसकी प्रतिक्रिया में  लोग जितना संभव हो, उतना शोर मचाते थे.उनका ये भी मानना था कि चांद पर एक मेंढक रहता है जो चांद के गड्ढों में बैठता है.

    लेकिन चांद पर मौजूद इंपैक्ट क्रेटर यानी गहरे गड्ढे अब से चार अरब साल पहले आकाशीय पिंडो की टक्कर से बने हैं.

    जब चंद्रमा पृथ्वी के सबसे क़रीब होता है तो इसे पेरिग्री कहते हैं.इस दौरान ज्वार-भाटा का स्तर सामान्य से काफ़ी बढ़ जाता है.इस दौरान चंद्रमा पृथ्वी की घूर्णन शक्ति भी कम करता है जिसकी वजह से पृथ्वी हर एक शताब्दी में 1.5 मिलिसेकेंड धीमी होती जा रही है.

    पूर्णिमा के चांद की तुलना में सूरज 14 गुना अधिक चमकीला होता है.पूरनमासी के एक चांद से आप अगर सूरज के बराबर की रोशनी चाहेंगे तो आपको 398,110 चंद्रमाओं की ज़रूरत पड़ेगी.

    जब चंद्र ग्रहण लगता है और चंद्रमा पृथ्वी की छाया में आ जाता है तो उसकी सतह का तापमान 500 डिग्री फॉरेनहाइट तक गिर जाता है.और इस प्रक्रिया में 90 मिनट से भी कम का समय लगता है.

    कभी-कभी चांद एक छल्ले की तरह लगने लगता है. इसे हम अर्धचंद्र या फिर बालचंद्र भी कहते हैं.

    ऐसी सूरत में हम पाते हैं कि चांद पर सूरज जैसा कुछ चमक रहा होता है.

    चांद का बाक़ी हिस्सा बहुत कम दिखाई देता है. इतना कि हम इसे न के बराबर कह सकते हैं और कुछ दिखाई देना भी काफी हद तक मौसम पर निर्भर करता है.

    ज्ञात इतिहास में लियानार्डो डा विंसी पहले ऐसे शख़्स थे जिन्होंने ये पता लगाया था कि चंद्रमा सिकुड़ या फैल नहीं रहा है बल्कि उसका कुछ हिस्सा केवल हमारी निगाहों से ओझल हो जाता है.

    इंटरनेशनल एस्ट्रॉनॉमिकल यूनियन न केवल चंद्रमा के गड्ढों बल्कि किसी भी अन्य खगोलीय चीज़ का नामकरण करता है.चंद्रमा के क्रेटर्स (विस्फोट से बने गड्ढे) के नाम जानेमाने वैज्ञानिकों, कलाकारों या अन्वेषकों (एक्सप्लोरर्स) के नाम पर रखे जाते हैं.अपोलो क्रेटर और मेयर मॉस्कोविंस (मॉस्को का समुद्र) के पास के क्रेटर्स के नाम अमेरिकी और रूसी अंतरिक्षयात्रियों के नाम पर रखे गए हैं.

    मेयर मॉस्कोविंस चांद का वो इलाका है जिसे चांद का सागरीय क्षेत्र कहा जाता है.

    चांद के बारे में हमें बहुत कुछ ऐसा है जिसके बारे में इंसान नहीं जानते हैं.

    एरिज़ोना के लॉवेल ऑब्जर्वेट्री ऑफ़ फ्लैगस्टाफ़ ने साल 1988 में चांद के बारे में एक सर्वे किया था.इसमें भाग लेने वाले 13 फीसदी लोगों ने कहा था कि उन्हें लगता है चांद चीज़ से बना हुआ है.

    चांद का दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र जहां चंद्रयान-3 पहुंचने की कोशिश कर रहा है, उसे बेहद रहस्यमयी माना जाता है.नासा के मुताबिक़, इस क्षेत्र में ऐसे कई गहरे गड्ढे और पर्वत हैं जिसकी छांव वाली ज़मीन पर अरबों सालों से सूरज की रोशनी नहीं पहुंची है.

     

    चंद्रयान-3 इतिहास रचने के बेहद करीब है. 23 अगस्त को यह चंद्रमा की सहत पर लैंड कर सकता है. ऐसे में चंद्रयान-3 के इस ऐतिहासिक पर को अपने दर्शकों को दिखाने के लिए नेशनल ज्योग्राफिक चैनल और डिज्नी प्लस हॉटस्टार ने बड़ा फैसला लिया है. इन दोनों जगहों पर चंद्रयान-3 #countdowntohistory का लाइव प्रसारण किया जाएगा. जो 23 अगस्त, 2023 को शाम 4 बजे शुरू होगा, यानी, चंद्रमा की सतह पर विक्रम के लैंड होने से कुछ घंटे पहले, जो भारतीय समयानुसार शाम करीब 5:45 बजे होने वाला है. इस दौरान प्रमुख अंतरिक्ष विशेषज्ञों के साथ होस्ट किया जाने वाला यह शो दर्शकों को टाइम और स्पेस के माध्यम से एक मनोरम यात्रा पर ले जाएगा.

    यह लाइव शो भारत के लिए चंद्रयान मिशन के महत्व और उसके भविष्य के बारे में अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स, राकेश शर्मा और इसरो के अध्यक्ष एस. सोमनाथ जैसी प्रतिष्ठित हस्तियों से विशेष जानकारी हासिल करके दर्शकों तक पहुंचाएगा. इस लाइव शो में शामिल होकर डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम सेंटर के सीईओ और को-फाउंडर सृजन पाल सिंह; इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के पूर्व कमांडर क्रिस हेडफील्ड और नासा के वॉयजर इंटरस्टेलर मैसेज की क्रिएटिव डायरेक्टर और एमी विजेता लेखिका एन ड्रूयान चंद्रमा की यात्रा पर प्रकाश डालते हुए अंतिम काउंटडाउन के साक्षी बनेंगे, जब भारत नया इतिहास रच रहा होगा. भविष्य के एआर वीआर ग्राफिक्स और रोचक तथ्य के साथ यह शो इस मिशन के पीछे की रॉकेट साइंस और तकनीक की मूल बातें समझाएगा. इस शो में विक्रम साराभाई और उनकी थुम्बा की खोज, इसरो के दूरदर्शी नेतृत्वकर्ता के रूप में सतीश धवन पर जानकारीपूर्ण लघु फिल्में भी दिखाई जाएंगी और डॉ. कलाम पर एक प्रेरक एवी भी प्रस्तुत की जाएगी.

    2019 में नेशनल ज्योग्राफिक पर ही चंद्रयान-2 के लाइव टेलीकास्ट ने लाखों लोगों को उस ऐतिहासिक घटना का साक्षी बनने का अवसर प्रदान किया था और पूरा देश इस उम्मीद में एकजुट हो गया था कि भारत चंद्रमा पर सफल लैंडिंग करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जाएगा. पहले चंद्रयान मिशन के 15 साल बाद अब भारत एक बार फिर चंद्रयान-3 के साथ चंद्रमा की सतह के दक्षिणी ध्रुव पर एक रोमांचक लाइव लैंडिंग के लिए तैयार हो रहा है. . इसके अतिरिक्त, नेशनल ज्योग्राफिक ने चंद्रयान 3 की सफल सॉफ्ट लैंडिंग की कामना करने और इसरो के प्रतिभाशाली दिमागों को सलाम करने के लिए एक विशेष गान जारी किया है.

  • केंद्र सरकार ने अगस्‍त महीने के लिए घरेलू कोटे में दो लाख टन अतिरिक्त चीनी उपलब्‍ध कराया है। उपभोक्‍ता मामले मंत्रालय ने बताया है कि घरेलू बाजार में अतिरिक्त चीनी से देशभर में इसका उचित मूल्य सुनिश्चित हो सकेगा। मंत्रालय ने बताया है कि ओणम, रक्षा बंधन और कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी जैसे त्योहारों पर चीनी की अत्यधिक मांग को देखते हुए इसकी अतिरिक्त मात्रा की आपूर्ति की जा रही है। यह मात्रा अगस्‍त महीने के लिए पहले से आवंटित 23 लाख पचास हजार टन चीनी के अतिरिक्त होगी।

    मंत्रालय ने बताया है कि पिछले वर्ष चीनी की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में 25 प्रतिशत वृद्धि के बावजूद देश में चीनी की औसत खुदरा कीमत लगभग 43 रुपये प्रति किलोग्राम है। पिछले दस वर्ष में देश में चीनी की कीमतों में वार्षिक मुद्रास्फीति दो प्रतिशत से कम रही है।

    मौजूदा चीनी मौसम के दौरान वर्ष 2022-23 (अक्टूबर से सितम्‍बर) में एथेनॉल उत्पादन के लिए लगभग 43 लाख टन चीनी दिए जाने के बाद देश में तीन करोड़ 30 लाख टन चीनी का उत्पादन होने का अनुमान है। मंत्रालय ने बताया है कि इस समय घरेलू मांग पूरी करने के लिए भारत के पास चीनी का पर्याप्त भंडार है।

  • ग्रीस की हालत बहुत गंभीर बनी हुई है। तापमान बढ़ने और तेज हवाएं चलने के कारण देश के कई हिस्‍से हाई अलर्ट पर हैं। इससे और विनाशकारी जंगल की आग भड़कने का जोखिम है। वर्तमान में यहां इतिहास की सबसे लंबे दिनों तक चलने वाली लू की स्थिति बनी हुई है। पूर्वानुमान के मुताबिक पिछले 50 वर्षों की तुलना में ग्रीस में तापमान सबसे उच्‍चतम स्‍तर पर पहुंच सकता है। एथेंस सहित दक्षिणी ग्रीस के कई क्षेत्रों में आग लगने के उच्‍चतम जोखिम की चेतावनी जारी की गई है। ग्रीस के जलवायु संकट और  आग लगने की अधिकतर घटनाएं मानव निर्मित हैं या फिर आपराधिक अनदेखी या किसी निहित इरादे से की गई हैं। हवा की बढ़ती गति के अलावा जलवायु परिवर्तन और मानव निर्मित वजहें ही ग्रीस के लोगों की मुसीबत का कारण हैं। ग्रीस की राजधानी में इस सप्‍ताह प्रचंड गर्मी देखने को मिली है। यहां का तापमान  चालीस डिग्री सेल्सियस के आस-पास रहेगा। सप्‍ताहांत में आग लगने की कई घटनाएं हुई हैं। इस कारण हजारों निवासियों को खाली कराया गया है। पोर्ट सिटी के निकट एलेक्जेंड्रा पोली में सबसे बदतर आग की स्थिति है। यह स्‍थान तुर्की की उत्‍तर-पश्चिमी सीमा के करीब है। सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए कई लोगों को खाली कराया गया है। जलवायु विज्ञान विशेषज्ञ के अनुसार ग्रीस जलवायु परिवर्तन द्वारा भूमध्‍यसागरीय देशों में सबसे बुरी तरह से प्रभावित देशों में से एक है।
  • राजस्थान के दौसा जिले में मंडावर रोड पर आज हुए भीषण सड़क दुघर्टना में 6 लोगों की मौत हो गई और 8 लोग घायल हो गये। यह हादसा महवा-अलवर स्टेट हाईवे पर उकरुंद गांव के पास उस समय हुआ जब कोल्ड ड्रिंक से भरे ट्रक ने सवारियों से भरी जीप को टक्कर मार दी। टक्‍कर इतनी जोरदार थी कि ट्रक पलट गया और जीप के परखच्चे उड़ गए। चार लोगों की  दुर्घटनास्थल पर ही मौत हो गई। गंभीर रूप से घायलों को जयपुर भेजा गया है। महवा और मंडावर पुलिस ने बचाव कार्य शुरू कर दिये हैं।
  • 9वें राष्ट्रमंडल संसदीय संघ भारत क्षेत्र सम्मेलन के तहत अतिथि मंगलवार शाम निकटवर्ती राजसमंद जिले के नाथद्वारा पहुंचे। अतिथियों ने सर्वप्रथम श्रीनाथ जी के मंदिर में दर्शन किए। उसके पश्चात विश्वास स्वरुपम में लाइट एंड साउंड शो देखा जिसके बाद तालियों से पूरा परिसर गूंज उठा।
  • राज्य सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने एक आदेश जारी कर राजकीय मीरा कन्या महाविद्यालय उदयपुर में वर्तमान सत्र 2023-24 सें स्नातकोत्तर स्तर पर भौतिकी विज्ञान एवं गणित विषय का संचालन प्रारंभ करने की प्रशासनिक स्वीकृति दी है। संवाद के दौरान मीरा गर्ल्स कॉलेज उदयपुर की बीएससी द्वितीय वर्ष की छात्रा  ने मुख्यमंत्री से महाविद्यालय में स्नातकोतर स्तर पर भौतिकी विज्ञान एवं गणित विषय को प्रारंभ करने की मांग की थी।

    मुख्यमंत्री से संवाद चल रहा था और कॉलेज में पढ़ने वाली एक बेटी ने कहा कि वह बीएएससी कर रही है और एमएससी भी यहीं से करना चाहती है लेकिन यहां पीजी नहीं है। बस इतना सा बोलना हुआ की मुख्यमंत्री  ने हाथों-हाथ ही पीजी खोलने का ऐलान कर दिया।असल में वर्ष 2030 तक राजस्थान को देश में अग्रणी बनाने की मंशा से मुख्यमंत्री  की ओर से शुरू किए गए मिशन 2030 के तहत मंगलवार को संवाद कार्यक्रम में उदयपुर के सुखाड़िया रंगमंच से भी जिले के युवा जुड़े थे। घोषणा की पालना करते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने हाथों हाथ क्रमोन्नति आदेश भी जारी कर दिए।

     

  •  उदयपुर में आयोजित दो दिवसीय 9वें सीपीए भारत क्षेत्र सम्मेलन के समापन सत्र के पश्चात प्रेसवार्ता हुई। इसमें लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिरला ने सम्मेलन में सर्वसम्मति से लिए गए निर्णयों को सांझा किया।
  • श्री बिरला ने बताया कि दो दिवसीय सम्मेलन में 23 राज्यों के पीठासीन अधिकारियों, विधान परिषद अध्यक्ष, राज्यसभा-लोकसभा सदस्यों ने भाग लिया। इसमें लोकतंत्र को और अधिक सशक्त बनाने, जनप्रतिनिधियों का क्षमतावर्धन, विधान परिषदों में किए गए नवाचारों को सांझा करते हुए संवाद को बढ़ावा देने सहित अन्य गतिविधियां हुई। सम्मेलन में कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं।
  • रेलवे प्रशासन द्वारा रेल यात्रियों की सुविधा हेतु उदयपुर सिटी-मैसूरू-उदयपुर सिटी हमसफर एक्सप्रेस रेलसेवा का कल्याण स्टेशन पर ठहराव एवं सियालदाह-अजमेर-सियालदाह एक्सप्रेस रेलसेवा का हजारीबाग रोड स्टेशन पर दिया जा रहा है।

    गाडी संख्या 19667, उदयपुर सिटी-मैसूरू हमसफर एक्सप्रेस रेलसेवा जो दिनांक 20 अगस्त 2023 से उदयपुर सिटी से प्रस्थान करेगी वह रेलसेवा कल्याण स्टेशन (मुंबई) पर 14.02 बजे आगमन एवं 14.05 बजे प्रस्थान करेगी। इसी प्रकार गाडी संख्या 19668, मैसूरू-उदयपुर सिटी हमसफर एक्सप्रेस जो दिनांक 24 अगस्त 2023 से मैसूरू से प्रस्थान करेगी वह कल्याण स्टेशन (मुंबई) पर 10.57 बजे आगमन एवं 11.00 बजे प्रस्थान करेगी।

    गाडी संख्या 12987, सियालदाह-अजमेर एक्सप्रेस रेलसेवा दिनांक 25 अगस्त 2023 से हजारीबाग रोड स्टेशन पर 04.13 बजे आगमन एवं 04.15 बजे प्रस्थान करेगी। इसी प्रकार गाडी संख्या 12988, अजमेर-सियालदाह एक्सप्रेस दिनांक 25 अगस्त 2023 से हजारीबाग रोड स्टेशन पर 09.35 बजे आगमन एवं 09.37 बजे प्रस्थान करेगी।

    उपरोक्त रेलसेवाओं का ठहराव प्रायौगिक तौर पर अगले आदेशों तक दिया जा रहा है।

  • श्रावण मास के अंतिम सोमवार को आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की शाही सवारी (नगर भ्रमण) दिनांक 28 अगस्त 2023 सोमवार को निकलेगी। जिसकी भव्यता को लेकर आज महाकालेश्वर मंदिर प्रांगण सर्व समाज/धार्मिक संगठनों,श्रावण महोत्सव समिति एवं शिवभक्तों की बैठक आहुत की।
  • समान पात्रता परीक्षा 2022 सीनियर सेकंडरी लेवल के प्राप्तांक में भूतपूर्व सैनिकों को 5% की शिथिलता, पुलिस मुख्यालय ने  संशोधित विज्ञप्ति जारी की
  • बम्बई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक आज चार अंक की मामूली बढ़त के साथ 65,200 पर बंद हुआ। नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज का निफ्टी भी तीन अंक  बढ़कर 19 हजार चार सौ पर आ गया।g
  • उदयपुर में दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे
    सोना 22 कैरेट 1 ग्राम₹  5529 सोना 24 कैरेट 1 ग्राम ₹ 5805
    चांदी 1 किलो बार का भाव रहा ₹₹ 78000
  • मौसम
  • हिमाचल प्रदेश पर मौसम विभाग ने मंगलवार शाम भारी से बहुत भारी वर्षा के अलर्ट का स्तर ऑरेंज से बढ़ाकर रेड कर दिया है। इसके अनुसार बुधवार 23 अगस्त सुबह 8.30 बजे तक प्रदेश के आठ जिलों में भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है। भारी से बहुत भारी वर्षा का यह रेड अलर्ट लाहौल-स्पीति, किन्नौर, कांगड़ा और चम्बा को छोड़ कर अन्य सभी जिलों के लिए जारी किया गया है।
  • मौसम विभाग ने राज्य में 23 और 24 अगस्त को 10 जिलों- बिलासपुर, चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा, कुल्लू, मंडी, शिमला, सिरमौर, सोलन, ऊना में भारी से बहुत भारी वर्षा का ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। विभाग ने इस दौरान अधिकांश स्थानों पर मध्यम बारिश और कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना जताई है।
  • यही नहीं मौसम विभग ने राज्य के चम्बा, कांगड़ा, कुल्लू, शिमला, सोलन और सिरमौर में फ़्लैश फ्लड की चेतावनी भी जारी की है। विभाग ने कहा है कि इन जिलों में भारी से बहुत भारी वर्षा से अचानक बाढ़ आ सकती है और लोगों को एक बार फिर भूस्खलन जैसी आपदा के सामना करना पड़ सकता है। इस बीच प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में मंगलवार सुबह से ही व्यापक से भारी वर्षा हो रही है। इससे सामान्य जनजीवन एक बार फिर प्रभावित हुआ है।
  • उदयपुर में  पिछले 24 घंटों के दौरान  तापमान रहा अधिकतम 28 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम  24 सेल्सियस
  • तो ये थीं अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ..

Leave a Reply

Your email address will not be published.