• Thu. May 30th, 2024

Udaipur News

Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

Udaipur Latest News 22 December 2023 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur latest News 22 December 2023 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur Latest News 22 December 2023 उदयपुर की ताजा खबर

Byadmin

Dec 22, 2023
  • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर हैं आज की अपडेट्स लेकर…..
  • फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉ 75वें गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री  के निमंत्रण पर फ्रांस के राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस समारोह के लिए भारत आएंगे। भारत और फ्रांस के बीच कई क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर समानता है। इस साल दोनों देश भारत-फ्रांस रणनीतिक साझेदारी की 25वीं वर्षगांठ मना रहे हैं। प्रधानमंत्री  14 जुलाई 2023 को पेरिस में आयोजित बैस्टिल डे परेड में सम्मानित अतिथि थे।
  • विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोरोना वायरस के बहुरूप जे0 एन0 – 1 के तेजी से फैलने कारण इसे ‘वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्‍ट’ की श्रेणी में रखा है। संगठन ने कहा है कि कोरोना के इस नये रूप से फिलहाल लोगों को कोई खतरा नहीं है और मौजूदा टीके इससे सुरक्षा प्रदान करेंगे। जे0 एन0 – 1 चीन, ब्रिटेन, भारत और अमरीका सहित विश्व के कई देशों में पाया गया है।
  • अंतरराष्ट्रीय कुश्ती खिलाड़ी बजरंग पुनिया ने पद्मश्री पुरस्कार लौटाने का एलान किया है. उन्हें साल 2019 में पद्मश्री से नवाज़ा गया था.ओलंपिक, एशियन और कॉमनवेल्थ गेम्स के मेडलिस्ट पुनिया ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म  पर प्रधानमंत्री   के नाम एक ख़त पोस्ट किया है और साथ में पुरस्कार लौटाने की बात कही है.
  • उन्होंने लिखा , “मैं अपना पद्मश्री पुरस्कार प्रधानमंत्री जी को वापस लौटा रहा हूँ. कहने के लिए बस मेरा यह पत्र है. यही मेरी स्टेटमेंट है.”इससे एक दिन पहले महिला पहलवान मलिक ने कुश्ती से संन्यास लेने का एलान किया था और प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान अपने जूते टेबल पर छोड़ दिए थे.उन्होंने यह क़दम भारतीय कुश्ती महासंघ के चुनावों के नतीजे आने के बाद उठाया था. इन चुनावों में संजय सिंह को कुश्ती महासंघ का अध्यक्ष चुना गया है.

  • मशहूर कवि और चित्रकार इमरोज का 97 साल की उम्र में अपने मुंबई के घर में निधन हो गया है। वे कुछ समय से उम्र संबंधी परेशानियों से गुजर रहे थे। इमरोज का मूल नाम इंद्रजीत सिंह था। इमरोज अमृता प्रीतम के साथ अपने रिश्ते के बाद काफी लोकप्रिय हो गए थे।इमरोज का जन्म साल 1926 में लाहौर से 100 किलोमीटर दूर एक गांव में हुआ था। इमरोज ने जगजीत सिंह की ‘बिरहा दा सुल्तान’ और बीबी नूरन की ‘कुली रह विच’ सहित कई प्रसिद्ध एलपी के कवर डिजाइन किए थे।इमरोज की मुलाकात अमृता से एक कलाकार के माध्यम से हुई जब अमृता अपनी किताब का कवर डिजाइन करने के लिए किसी की तलाश कर रही थीं।अमृता और इमरोज के बीच उम्र में सात साल का फासला था। साल 2005 में अमृता का निधन हो गया। अमृता ने अपनी मृत्यु से पहले इमरोज के लिए एक कविता लिखी ‘मैं तुम्हें फिर मिलूंगी।’ वहीं, इमरोज उनकी मृत्यु के तुरंत बाद कवि बन गए थे। उन्होंने अमृता पर एक प्रेम कविता पूरी की-‘उसने जिस्म छोड़ा है, साथ नहीं।’

  • 31 अक्तूबर 2005 को अमृता ने आख़िरी सांस ली. लेकिन इमरोज़ के लिए अमृता अब भी उनके साथ हैं. उनके बिल्कुल क़रीब.

    इमरोज़ कहते हैं, “उसने जिस्म छोड़ा है साथ नहीं. वो अब भी मिलती है कभी तारों की छांव में कभी बादलों की छांव में कभी किरणों की रोशनी में कभी ख़्यालों के उजाले में हम उसी तरह मिलकर चलते हैं चुपचाप हमें चलते हुए देखकर फूल हमें बुला लेते हैं हम फूलों के घेरे में बैठकर एक-दूसरे को अपना अपना कलाम सुनाते हैं उसने जिस्म छोड़ है साथ नहीं…”

    टोविनो थॉमस-स्टारर सर्वाइवल ड्रामा मलयालम फिल्म ‘2018 : एवरीवन इज ए हीरो’ ऑस्कर की दौड़ से बाहर हो गई है। यह बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज फिल्म कैटेगिरी में भारत की ऑफिशियल एंट्री थी।एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज ने शुक्रवार को अपकमिंग 96वें ऑस्कर सेरेमनी के लिए 10 कैटेगिरीज में शॉर्टलिस्ट की घोषणा की, जहां मार्गोट रॉबी-स्टारर ‘बार्बी’ को सबसे ज्यादा मंजूरी मिली।

    जूड एंथनी जोसेफ द्वारा निर्देशित ‘2018 – एवरीवन इज ए हीरो’ 2018 में केरल में हुई अभूतपूर्व बारिश और बाढ़ की सच्ची कहानी पर आधारित है।

    इसे इसलिए चुना गया क्योंकि यह एक वैश्विक मुद्दे को संबोधित करती है और प्राकृतिक आपदा की भयावह वास्तविकताओं को दर्शाती है।

    फिल्म में कुंचाको बोबन, आसिफ अली, विनीत श्रीनिवासन, नारायण और लाल भी हैं।

    1997 की फिल्म ‘गुरु’, 2011 में थ्रिलर ड्रामा ‘अदामिन्ते माकन अबू’ और 2019 की बहुचर्चित फिल्म ‘जल्लीकट्टू’ के बाद यह चौथी मलयालम फिल्म बन गई, जिसे ऑस्कर के लिए भारत की ऑफिशियल एंट्री के रूप में चुना गया था। हालांकि, इनमें से किसी भी फिल्म को नामांकन नहीं मिला।

    कुल मिलाकर, ग्रेटा गेरविग की मेटा-कॉमेडी ‘बार्बी’ को साउंड, बिली इलिश (‘व्हाट आई वाज़ मेड फॉर?’), दुआ लीपा (‘डांस द नाइट’) और मार्क रॉनसन और एंड्रयू व्याट (‘आई एम जस्ट केन’) के तीन सबमिशन के लिए ओरिजनल सॉन्ग और बाद की जोड़ी के ओरिजनल स्कोर सहित पांच के साथ सबसे ज्यादा उल्लेख मिले।

    ‘बार्बी’ के लिए बड़ी कमी मेकअप और हेयरस्टाइल में थी। ‘बार्बी’ के अलावा, ‘द कलर पर्पल’ और ‘गार्जियंस ऑफ द गैलेक्सी वॉल्यूम 3’ सभी शॉर्टलिस्ट में जगह बनाने में असफल रहे। इसके बजाय, ब्रांच ने ए24 की एकसेंट्रिक ‘ब्यू इज अफ़्रेड’ और यूनिवर्सल पिक्चर्स की हॉरर समर फिल्म ‘द लास्ट वॉयेज ऑफ द डेमेटर’ का चयन किया।

    म्यूजिक कैटेगिरी में डैनियल पेम्बर्टन (‘स्पाइडर-मैन: अक्रॉस द स्पाइडर-वर्स’), लुडविग गोरानसन (‘ओपेनहाइमर’) और दिवंगत रॉबी रॉबर्टसन (‘किलर्स ऑफ द फ्लावर मून’) के कंपोजिशन शामिल हैं। थॉमस न्यूमैन (‘एलिमेंटल’) और जॉन विलियम्स (‘इंडियाना जोन्स एंड द डायल ऑफ डेस्टिनी’) सहित काफी संख्या में दिग्गज भी हैं।

    वैरायटी के अनुसार, दमदार परफॉर्मेंस वाली अन्य फिल्मों में मार्टिन स्कोर्सेसे की ‘किलर्स ऑफ द फ्लावर मून’, ओरिजनल सॉन्ग सहित कुल मिलाकर चार उल्लेख और जेए बायोना की ‘सोसाइटी ऑफ द स्नो’ शामिल हैं, जो पिछले साल के आश्चर्यजनक रथ ‘ऑल क्वाइट ऑन द वेस्टर्न फ्रंट’ के पथ का अनुकरण कर सकता है जिसने चार ऑस्कर जीते थे।

    अंतरराष्ट्रीय फीचर रेस में रोमानिया के ‘डोंट एक्सपक्ट टू मच फ्रॉम द एंड ऑफ द वर्ल्ड’ और चिली के ‘द सेटलर्स’ का नाम न लिए जाने के अलावा कोई चौंकाने वाली आलोचना देखने को नहीं मिली। यूके के ‘द ज़ोन ऑफ इंटरेस्ट’ और स्पेन के ‘सोसाइटी ऑफ द स्नो’ सहित सभी सामान्य बोर्ड पर हैं।

    ऑस्कर नामांकन अवधि 11 जनवरी से 16 जनवरी तक चलेगी, 23 जनवरी को आधिकारिक नामांकित व्यक्तियों की घोषणा की जाएगी।

    भारत सहित कई देशों में कोरोना के मरीज फिर से बढ़ रहे हैं. इससे चिंता की लहर फैल गई है. बीते दिनों कोरोना के नए वैरिएंट जेएल-1 का मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड पर है. कोविड संभावित मरीजों पर निगरानी रखी जा रही है. बीते कुछ दिनों में राजस्थान में भी कोरोना के कई नए केस मिले हैं. अब प्रदेश से कोरोना के एक और नए मरीज की जानकारी सामने आई है.

    मिली जानकारी के अनुसार जोधपुर से कोरोना का एक नया केस सामने आया है. यहां 20 साल की एक लड़की कोरोना पॉजिटिव मिली है. बताया जाता है कि पॉजिटिव मिली लड़की हाल ही में ऑस्ट्रेलिया से लौटी है. यह जोधपुर का पहला कोरोना केस है. मामले की जानकारी सामने आते ही लड़की को होम आइसोलेशन में रखा गया है.

    बताया गया कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया जाकर वापस जोधपुर आई 20 साल की लड़की में कोरोना के लक्षण दिखे. जिसके बाद कोरोना जांच करवाने पर रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. फिलहाल लड़की को होम आइसोलेशन में रखा गया है. महात्मा गांधी अस्पताल के अधीक्षक  ने मामले की पुष्टि की है. मिली जानकारी के अनुसार जोधपुर के महामंदिर क्षेत्र में रहने वाली एक 20 साल की युवती सर्दी और बुखार की परेशानी के चलते एमडीएम हॉस्पिटल आई थी. डॉक्टरों ने युवती में कोरोना के लक्षण को देखते हुए उसके सैंपल करवाए और शुक्रवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई.युवती ने बताया कि वह 5 दिन पहले ही आस्ट्रेलिया से लौटी थी, तब से बीमार थी. अब मेडिकल डिपार्टमेंट की और से युवती के सम्पर्क में आए लोगों की जानकारी जुटाई जा रही है. उनका भी हेल्थ चेकअप कराया जाएगा.

    इधर कई राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण की बढ़ती संख्या को देखते हुए कोविड-19 एवं श्वसन रोगों से बचाव व नियंत्रण के लिए राजस्थान में परामर्श जारी किए गए हैं. परामर्श के अनुसार विशेषज्ञों की राय में प्रथम दृष्टया यह अपेक्षाकृत कम संक्रमण वाला प्रतीत होता है.

    उदयपुर में आज एक और रॉयल वेडिंग होने जा रही है। हरियाणा के  विधायक  और राजस्थान की रहने वाली IAS शादी के बंधन में बंधेंगे। उदयपुर के राफेल्स होटल में दोनों आज फेरे लेंगे। शादी समारोह गार्डन में शुरू हो गया है। आज के कार्यक्रम में दोनों ही परिवारों के पारिवारिक मेहमान ही बुलाए गए हैं। राजस्थान शाही शादियों का पसंदीदा वेन्यू बन चुका है. राजस्थान के उदयपुर में  सांसद  और बॉलीवुड एक्ट्रेस परिणीति चोपड़ा ने शादी की थी. भव्य बिश्नोई कुलदीप बिश्ननोई के बेटे हैं. हरियाणा में उनका परिवार तीन पीढ़ियों से राजनीति में है. उदयपुर में शादी के बाद भव्य और परी 24 को पुष्कर में पहुंचेंगी. जहां नवविवाहित जोड़े का ग्रैंड वेलकम होगा.

    विधायक और बीकानेर की भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी IAS   शादी के बाद राजस्थान और हरियाणा सहित अन्य स्थानों पर रिसेप्शन कार्यक्रम होंगे. इस जोड़े की सगाई देश में काफी चर्चा रही थी. साथ ही दोनों के रील्स भी सोशल मीडिया पर खूब लोकप्रिय हुए है. शादी के बाद यह नवविवाहित जोड़ा 24 दिसम्बर को पुष्कर के एक रिसोर्ट में भी आएगा.

    गौरतलब है कि परी बिश्नोई 2020 बैच की सिक्किम कैडर की आईएएस अधिकारी है. वर्तमान में वह सिक्किम के गंगटोंक में बतौर उपखंड अधिकारी के तौर पर तैनात है. परी का जन्म बीकानेर जिले के नोखा में हुआ था. उनके पिता चार बार गांव के सरपंच भी रहे है और माँ अजमेर में ही जीआरपी में तैनात है. परी ने सिविल सेवा परीक्षा 2019 में 30 वीं रैंक पाकर सिक्किम कैडर में आईएएस बनी थीं. सिक्किम की राजधानी गंगटोक में वह एसडीएम भी रहीं.

     जब भी  सब्जियां खाने के लिए देते हैं तो बच्चे बहुत नखरे करते हैं. भले हीआप उन्हें हेल्दी देने के लिए नियमित नई रेसिपी ट्राई करते हैं, जिनमें सब्जियों को छिपा देते हैं, लेकिन फिर भी ज्यादातर सब्जियां प्लेट में ही रह जाती हैं, या इससे भी बदतर, फर्श पर बिखरी रहती हैं? लेकिन वहीं अगर उन्हें मिठाई या फल खाने के लिए देते हैं, तो  प्लेट झट से खाली हो जाती है. या हो सकता है कि गाजर और खीरे के टुकड़े, आपके बच्चे के लंचबॉक्स में बिना छुए घर आते हों, लेकिन संतरे की फांकें कहीं नजर नहीं आतीं. अगर  बच्चे के साथ इन परेशानी का सामना कर रहे हैं, तो  ऐसा कई मामलों में देखा गया है कि बच्चे सब्जियों की बजाए फल ज्यादा पसंद करते हैं.ऐसे में यह जानना जरूरी है कि क्या यह ठीक है? और आप ऐसा क्या करें कि बच्चे सब्जियां खाने लगें.  यह बात हैरान कर सकती है कि बच्चों में जन्म से ही फलों में ज्यादा इंटरस्ट होता है. आहार दिशानिर्देशों के अनुसार सब्जियों और फलों की दैनिक खुराक बच्चे की उम्र पर निर्भर करती है. दो वर्ष से अधिक आयु के लगभग 62.6% बच्चे अनुशंसित दैनिक फल सेवन को पूरा करते हैं, लेकिन केवल 9% ही अनुशंसित सब्जी सेवन को पूरा करते हैं.यह हैरानी की बात नहीं है, क्योंकि बच्चों में फल के प्रति स्वाभाविक प्राथमिकता होती है. कम से कम आंशिक रूप से, यह इसकी मिठास और बनावट के कारण है, चाहे वह कुरकुरा, मीठा या रसदार हो. फलों की बनावट को बच्चों में सकारात्मक संवेदी अनुभव से जोड़ा गया है.

    सब्जियां स्वाद में अलग होती हैं. कुछ सब्जियां तो बच्चों को कड़वी लग सकती हैं. बच्चे अक्सर सब्जियों के बजाय फल पसंद करते हैं, इसका कारण माता-पिता की पसंद से भी संबंधित हो सकता है. कुछ शोधों में यह भी सुझाव दिया गया है कि गर्भावस्था के दौरान मां क्या खाती है, उसके आधार पर बच्चे जन्म से पहले ही भोजन संबंधी प्राथमिकताएं विकसित कर लेते हैं.इसलिए, फलों को प्राथमिकता देना आम बात है. लेकिन क्या यह ठीक है कि बच्चा फल तो खूब खाता है, लेकिन सब्जियां बहुत कम या बिल्कुल नहीं खाता है? यह सच है. लेकिन यह बहुत अच्छी बात है कि  बच्चा फल पसंद करता है, संतुलित भोजन पैटर्न के हिस्से के रूप में सब्जियां भी उतनी ही महत्वपूर्ण हैं.सब्जियां हमें ऊर्जा, आवश्यक विटामिन और खनिज, साथ ही पानी और फाइबर प्रदान करती हैं, जो हमारी आंतों को नियमित रखने में मदद करती हैं. वे एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली का भी समर्थन करते हैं. अगर  बच्चा र्सिफ फल खा रहा है, तो उनमें कुछ आवश्यक पोषक तत्वों की कमी है. लेकिन अगर वे केवल सब्जियां खा रहे हैं तो भी यही सच है.फल शरीर को विभिन्न प्रकार के आवश्यक विटामिन और खनिज, साथ ही फाइटोकेमिकल्स भी प्रदान करते हैं, जो प्रदाह को कम करने में मदद कर सकते हैं. साक्ष्य से पता चलता है कि फलों और सब्जियों का स्वस्थ सेवन उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और स्ट्रोक सहित पुरानी बीमारियों से बचाता है.

    विभिन्न रंगों के फल और सब्जियां एक साथ खाने से हमें विभिन्न पोषक तत्व मिलते हैं जिनकी हमें आवश्यकता होती है, जिनमें से कुछ हमें अन्य खाद्य पदार्थों से नहीं मिल सकते हैं. हमें बच्चों को उनकी वृद्धि और विकास में सहायता के लिए हर दिन फलों और सब्जियों का मिश्रण खाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

    अगर  बच्चा प्रतिदिन अनुशंसित मात्रा से थोड़ा अधिक फल खा रहा है, तो यह आमतौर पर कोई समस्या नहीं है. फलों में प्राकृतिक शर्करा होती है जो आपके लिए अच्छी होती है. लेकिन बहुत अधिक अच्छी चीज़, भले ही वह प्राकृतिक हो, समस्याएँ पैदा कर सकती है. फलों में वस्तुतः कोई वसा नहीं होती और बहुत कम या कोई प्रोटीन नहीं होता, दोनों ही बढ़ते बच्चे के लिए आवश्यक हैं.जब फलों का अत्यधिक सेवन सब्जियों, डेयरी उत्पादों और मांस जैसे अन्य खाद्य समूहों को विस्थापित करना शुरू कर देता है, तब चीजें मुश्किल हो सकती हैं.

    उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे पर शुक्रवार सुबह ट्रक की टक्कर से कागदर डैम से जुड़ी केनाल टूट हो गई। जिससे घंटो तक हजारों लीटर पानी बहता रहा। रोड पर पानी बहने से ट्रेफिक को रोकना पड़ा। ऐसे में वाहनों का लंबा जाम लग गया। घटना शुक्रवार को अलसुबह की बताई जा रही है। जब एक ओवरलोड ट्रक वहां से गुजरा।

    सर्दी बढने के साथ-साथ ही रुण्डेड़ा तालाब व एनिकट पर मेहमान परिंदों की चहलकदमी बढ़ती जा रही है। इन पक्षियों की अठखेलियां आकर्षित कर रही है। छोटे पक्षी शिकारी पक्षियों का शिकार बन रहे हैं। रूण्डेड़ा तालाब पर कई देशी-विदेशी पक्षी देखने को मिल रहे हैं, जैसे ब्लेक नेक्ड स्टॉर्क, फेरूजिनियस पोचार्ड, नार्दन शॉवलर, रडी शैल डक, कॉमन पोचार्ड, ग्रीन विग्ड टील, ग्रेटर स्पाटेड ईगल, मोन्टेग्युज हैरियर, मार्श हैरियर, शॉर्ट टॉ स्नेक ईगल, कॉमन चिट चॉफ, रेड ब्रेस्टेड फ्लाई केचर, पर्पल हेरॉन, ग्रे हेरॉन आदि।
    इधर, बुधवार को एक अद्भुत नजारा भी देखने को मिला, जहां एक ओर पर्पल हेरॉन ने एक कील बैक सांप को चोंच में पकड़ लिया, वही सांप ने भी जिंदगी बचाने के लिए अपने शरीर को हेरॉन की गर्दन के अगल-बगल लपेट लिया। पास के पेड़ पर बैठा प्रवासी शिकारी पक्षी ग्रेटर स्पॉटेड ईगल भी इस उनके संघर्ष को देख रहा था और अब इस लड़ाई में वो भी उतर गया, प्रवासी ईगल ने भी पानी वाले सांप को हेरॉन से छीनने की कोशिश की, परंतु हेरॉन पानी में उगी बड़ी घास में छिप गया, कुछ देर तो ईगल वहां रुका रहा पर फिर उसने वहां से उड़ान भर ली। कुछ देर बाद हेरॉन अपनी गर्दन में लिपटे हुए सांप को लेकर खेतों के पार उड़ निकला। पर्पल हेरॉन एक बडे आकार का शिकारी पक्षी है ,जो अपनी पकड़ में आने वाले हर प्रकार के जीव का शिकार कर लेता है और हेरॉन की गर्दन में लिपटा सांप चेकर्ड कील बैक सांप है, जिसे आम बोलचाल में पानी वाला सांप भी कहा जाता है जो कि जहरीला नहीं होता है, लेकिन इसका काटना बहुत ही दर्दनाक हो सकता है।

     शहर में  पर्यटन सीजन शुरु हो गया है। पिछले कुछ दिनों से शहर में सैलानियों की आवक देखी जा रही है। ऐसे में  सभी व्यापरी दुकानों के बाहर वाहनों के जाम से परेशान है। पर्यटन सीजन शुरू होने के साथ ही सिटी पैलेस के बाहर बड़ी संख्या में ऑटो चालक आने लगे हैं। सड़क किनारे दुकानों के बाहर घंटों ऑटो खड़े रहते हैं। आगे-पीछे लेने की बात पर कई बार झगड़े की नौबत आ जाती है।

    इसी से परेशान लोगों ने  बेरिकेड्स लगाकर पैलेस मार्ग को बंद कर दिया। जिन्हें बाद में हटाया गया। जगदीश चौक में वन-वे होने के बावजूद हर दिशा से तीन पहिया और चार पहिया वाहनों का आवागमन हो रहा है। इससे स्थानीय लोगों और व्यापारीयों को परेशानी हो रही हैं। लोगों ने बताया कि कुछ माह पूर्व भी प्रशासन को इस समस्या के बारे में अवगत करवाया था। इसके बावजूद इस समस्या का समाधान नहीं निकल पा रहा है। थानाधिकारी,  ने मामले के बारे में कहा की  ऐसे में हो सकता है ड्यूटी पर तैनात सिपाही ने बेरिकेड्स लगाए हो। छुट्टियों और नववर्ष पर पर्यटक अधिक आएंगे। ऐसे में 23 दिसंबर से चांदपोल, गड़िया देवरा से जगदीश चौक, रंग निवास से जगदीश चौक तक ही वाहनों को आने दिया जाएगा। वन-वे की पालना करवाते हुए वाहनों को हाथीपोल वाले मार्ग से निकाला जाएगा।

    एयर इंडिया एक्‍सप्रेस दिल्‍ली से आयोध्‍या के बीच उड़ान संचालित करने जा रही है। एयर इंडिया एक्सप्रेस ने 30 दिसंबर से अयोध्या के लिए पहली उड़ान की शुरुआत करने की घोषणा की है। जानकारी के अनुसार एयरलाइन ने कहा कि अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का एक विस्तारित रनवे है, जो A-321/B-737 प्रकार के विमान संचालन के के लिए उपयुक्त है।

    इसके तहत एयर इंडिया एक्सप्रेस कि उद्घाटन उड़ान IX 2789, 30 दिसंबर सुबह 11 बजे दिल्ली से फ्लाइट उड़ेगी और 12.20 बजे अयोध्या उतरेगी। अयोध्या से IX 1769 दिल्ली के लिए दोपहर 12.50 बजे उड़कर 2.10 बजे विमान दिल्ली पहुंचेगा। एयरलाइन 16 जनवरी से इस रूट पर दैनिक सेवाएं शुरू कर देगी।

    एयरलाइन के प्रबंध निदेशक  ने कहा, एयर इंडिया एक्सप्रेस हवाईअड्डे के खुलने के तुरंत बाद अयोध्या से परिचालन शुरू करने को लेकर उत्साहित है।

    उदयपुर विकास प्राधिकरण एवं जिला प्रशासन ने शहर की यातायात व्यवस्था सुधारने में एक और सफलता हासिल की। हाल ही में फतहपुरा चौराहे से बोटल नेक हटाए जाने के बाद यूडीए अध्यक्ष  और जिला कलक्टर  ने पहल करते हुए बड़ी रोड से शिल्पग्राम मार्ग पर प्रस्तावित 80 फीट रोड से बोटल नेक हटाकर शहरवासियों व पर्यटकों को सौगात दी।

    उदयपुर विकास प्राधिकरण की ओर से बड़ी रोड़ से शिल्पग्राम होते हुए रानी रोड तक 80 फीट चौड़ी सड़क प्रस्तावित है। इस पर शिल्पग्राम के पास बोटल नेक की वजह से आवागमन में मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। विशेषकर शिल्पग्राम उत्सव के दौरान लम्बे जाम लगने से शहरवासी और पर्यटक परेशानी से दो चार होते थे।दोनों ने पहल करते हुए बोटल नेक की 0.075 हेक्टेयर जमीन के भूस्वामियों से समझाइश की।

    पिछले चार-पांच दिनों से लगतार समझाइश के दौर चलते रहे और आखिरकार भूस्वामियों की सहमति मिलने पर शुक्रवार को उदयपुर विकास प्राधिकरण की टीम ने बोटल नेक की दीवार को जेसीबी से ढहाकर सड़क को चौड़ा कर दिया। साथ ही ग्रेवल सड़क के निर्माण का कार्य भी हाथों-हाथ प्रारम्भ कर दिया जिससे शिल्पग्राम उत्सव में आने वालों को सुविधा हो सके। आने वाले दिनों में 80 फीट रोड पर कब्जे हटाने हटाने का कार्य प्राधिकरण करेगा। जिला कलक्टर की पहल पर फतहपुरा चौराहे से बोटल नेक हटाने के बाद यह दूसरी बड़ी कार्रवाई है जिससे शहरवासियों को राहत मिली है।

     

  • शेयर बाजार के कारोबार में बीएसई सेंसेक्स 242  अंक की तेजी पर 71107 के लेवल पर बंद हुआ जबकि निफ्टी  94 अंक की तेजी पर 21349 के लेवल पर बंद हुआ है.
  • ।उदयपुर में दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे
  • सोना 22 कैरेट 1 ग्राम₹  5904 सोना 24 कैरेट 1 ग्राम ₹ 6199
    चांदी 1 किलो बार का भाव रहा ₹₹ 81000
  • मौसम
  • पंजाब में लगातार बढ़ती ठंड से सामान्य जनजीवन को पूरी तरह अस्त व्यस्त कर दिया हैI तापमान में आ रही गिरावट से घना कोहरा भी लोगों की परेशानी का सबब बन रहा हैI
  •   उदयपुर में  पिछले 24 घंटों के दौरान  तापमान रहा अधिकतम 26 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम  9  डिग्री सेल्सियस
  • तो ये थीं अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…

Leave a Reply

Your email address will not be published.