• Mon. Aug 15th, 2022

Udaipur News

Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

Udaipur Latest News 25 May 2021| उ द य पु र की ता जा ख ब र News 25 May 2021 | उदयपुर की ता जा ख ब र News 25 May 2021

Byadmin

May 25, 2021
  • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर है आज की अपडेट्स लेकर…
  • दुनिया में हर साल 25 मई को विश्व थायराइड दिवस मनाया जाता है थायराइड के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है वर्ष 2008 में इसकी शुरुआत हुई पुरुषों की तुलना में महिलाएं इस बीमारी से अधिक ग्रसित होती हैं इस रोग के प्रति लापरवाही बरतने से यह रोग खतरनाक भी हो सकता है थायराइड गले के ठीक नीचे की तरफ एक ग्रंथि होती है ये एंडोक्राइन ग्रंथि हार्मोन बनाती है इससे निकलने वाला थायराइड हार्मोन खून के जरिए हमारे पूरे शरीर में बहता है शरीर के अंगों के सामान्य कामकाज के लिए इसकी जरूरत होती है इसके ज्यादा या कम मात्रा में हार्मोन बनाने पर थायराइड की समस्या उत्पन्न होती है जिससे शरीर की हर कोशिका प्रभावित होने लगती है इससे बचने के लिए फाइबर से समृद्ध और कम वसा वाले आहार ले, शारीरिक गतिविधि करते रहे, तनाव से बचे, तला हुआ भोजन कम खाएं, अधिक चीनी का प्रयोग करने से बचें, कॉफी का प्रयोग कम करें, हर प्रकार की गोभी खाने से बचें ,सोया खाने से बचें।
  • इस साल 26 मई यानी बुधवार को बुद्ध जयंती या बुद्ध पूर्णिमा है मान्यता है कि इस दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था और कठिन साधना के बाद उन्हें बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी मान्यता है कि बुद्ध भगवान श्री हरि विष्णु के 90 अवतार थे इनका जन्म 563 ईसा पूर्व नेपाल के कपिलवस्तु के पास लुंबिनी में हुआ था इन का वास्तविक नाम सिद्धार्थ था बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध है जिन्हें कठोर तपस्या और साधना के पश्चात बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई अंत में कुशीनगर में वैशाख पूर्णिमा को उनका निधन हो गया था। इसलिए इस दिन को परिनिर्वाण दिवस भी कहा जाता है।
  • कवेरी
    कोरोना की वर्तमान स्थिति को कैसे देखते हैं?
    विशेषज्ञ कहते हैं साल 2020 में मेडिकल सिस्टम को विकसित करते हुए हमने इसे कंट्रोल किया लेकिन अक्टूबर से दिसंबर तक हुई लापरवाही से दूसरी लहर घातक सिद्ध हुई अतः हमें अब लापरवाही नहीं करनी है और सभी नियमों का पालन करना है क्योंकि अभी तीसरी लहर की संभावना बनी हुई है।
  • क्या मयूकर माइकोसिस भी कम्युनिकेबल डिजीज है यानी एक से दूसरे में हो सकता है?
    विशेषज्ञ कहते हैं नहीं ब्लेक फंगस का संक्रमण एक दूसरे से नहीं होता है ऐसा नहीं सोचे कि अगर आप के मरीज को ब्लैक फंगस हो गया है और आप उसके साथ जा रहे हैं यह बैठ गए हैं तो हो जाएगा यह उसे ही होता है जिसकी इम्यूनिटी कमजोर है।
  • मयूकर माइकोसिस से बचाव के लिए क्या करें?
    विशेषज्ञ कहते हैं जिनका ऑक्सीजन लेवल 90 तक भी गया है या वह आइसोलेशन में इलाज करा रहे हैं उन्हें डरने की जरूरत नहीं है ध्यान रखें अगर मरीज को ऑक्सीजन लगा है तो उसमें जो टयूबिग है उसे बीच-बीच में पानी मे उबाल लीजिए। पुराना पानी है तो उसे बदल ले। डिस्टिल्ड वाटर से। बदल ले। जिनके पास सुविधा नहीं है वह पानी उबाल कर ठंडा कर उसमें भर ले। यही सोर्स होते हैं जिनसे बलेक फंगस कोशिश करता है। इसके अलावा मरीज जहां है वहां जाले ना हो नमी ना हो कूलर में भी पानी ना रखें।
  • वह 4 दवाएं कौन सी है जिससे जिससे लोग प्रारंभिक इलाज के लिए ले सकते हैं?
    विशेषज्ञ बताते हैं जो दवाई बताई गई है वह उन्हें ही देनी है जब मरीज की ऑक्सीजन 90 से 94 के बीच हो पेरासिटामोल जब बुखार 99 से ऊपर हो आईलरमेकटीन 12 मिलीग्राम की गोली रात के खाने के 2 घंटे बाद लेनी है सिर्फ 5 दिन तक। डॉक्सीसाइक्लिन 100 एमजी का कैप्सूल सुबह-शाम 5 दिन तक और प्रोडीनीसोलोन 20 एमजी की गोली सुबह-शाम 5 दिन तक ले अगर 5 दिन तक फायदा नहीं दिख रहा तो अस्पताल जाना है इसके अलावा अस्पताल कब जाना है जब मरीज का ऑक्सीजन लेवल 90 से कम हो या मरीज के होंठ या नाखून नीले हो जाए या बुखार 100 से नीचे ना उतरे यह बेहोशी हो तब इन दवाओं पर निर्भर नहीं रहना है।
  • देश में ब्लैक फंगस वाइट फंगस के मामलों के बाद यलो फंगस का मामला भी सामने आया है यह फंगस अमूमन रेप्टाइल्स यानी रेगने वाले जानवरों में पाए जाते हैं म्यूकार्माइकोसिस में पाए जाने वाले फंगस कई बार अलग रंग ले लेते हैं इन फंगल इंफेक्शन को लेकर डरने से बेहतर है इनके बारे में जाने और खुद को इनसे बचाया जाए वही विशेषज्ञ बताते हैं कि फंगल इन्फेक्शन को रंग के नाम से नहीं बल्कि मेडिकल नाम से पुकारे अन्यथा भ्रम फैल सकता है ब्लैक वाइट या येलो फंगस इनमें से कई शब्द भ्रामक हो सकते हैं जिससे उलझन हो सकती है जिनकी इम्यूनिटी कम है उनमे ये इंफेक्शन देखते हैं यह वातावरण में पाए जाने वाला फंगस है और संक्रामक नहीं है यह 95% उन मरीजों में मिला है जिन्हें डायबिटीज है या जिन के इलाज में स्टेरॉयड का इस्तेमाल हुआ है विशेषज्ञ बताते हैं फंगस का अंदरूनी कोई रंग नहीं होता म्यूकर ग्रुप की फंगस राइजोपस जब शरीर में सेल्स को मारती है तो उन पर अपने काले रंग की कैप छोड़ जाती है क्योंकि वह मरे हुए सेल होते हैं मीडिया में जो नाम चल रहे है वह फंगस के शरीर पर दिख रहे रंग के आधार पर रखे जा रहे हैं लेकिन इसका इलाज तभी हो सकता है जब इसकी सही प्रजाति का पता चलता है इन सभी में एक बात समान है कि वह प्रतिरक्षा तंत्र के कमजोर होने पर शरीर पर हमला करते हैं आमतौर पर मौजूदा समय में मामले बढ़ने की वजह कोरोना संक्रमण है मयूकर माइकोसिस के बड़े मामले कोरोना मरीजों में आ रहे चाहे वह ठीक हो चुके हो या नहीं जिन मरीजों में डायबिटीज है और इलाज के लिए स्ट्रॉयड दिए गए हैं उन्हें भी इसका खतरा है इसके अलावा जिनका कोई ट्रांसप्लांट किया गया है कया कैंसर के मरीज जिनकी कीमोथेरेपी चल रही है या जो डायलिसिस पर है इन सब की इम्युनिटी कमजोर होती है फंगल इंफेक्शन के शरीर पर अलग-अलग प्रभाव होते हैं इसके इलाज के लिए समय पर इनकी पहचान होना बहुत जरूरी है इसके लिए इनके लक्षणों को समझना जरूरी है ।ये फंगस आमतौर पर मिट्टी पौधे सड़े हुए फल और सब्जियों में पनपता है यह दिमाग फेफड़ों और साइनस को प्रभावित करता है इसमे ऑपरेशन की जरूरत पड़ सकती है इसके लक्षण है नाक बंद हो जाना नाक से खून निकलना सिर दर्द आंखों में सूजन और दर्द पलकों का गिरना धुंधलापन आखिर में अंधापन होना नाक के आसपास काले धब्बे हो सकते हैं। जब फेफड़ों में इसका इंफेक्शन होता है तो सीने में दर्द और सांस लेने में परेशानी जैसे लक्षण होते हैं वही कैंडिडा यानी वहाइट फंगस में जीभ पर सफेद दाग दिखने लगते हैं किडनी और फेफड़ों में इन्फेक्शन हो सकता है यह मयूकर माइकोसिस जितना खतरनाक नहीं होता यह तभी खतरनाक होता है अगर इंफेक्शन खून में आ जाए ।एस्पेरगिलस फंगल इनफेक्शन यह उनहे होता है जिन्हें पहले से कोई एलर्जी हो इसमें भी अगर निमोनिया हो जाए या फंगल बॉल बन जाए तो यह खतरनाक हो सकता है इन सभी से बचने के लिए जरूरी है साफ सफाई का ध्यान रखें धूल मिट्टी वाली जगहों पर जाने से बचें हाथ धोना ऑक्सीजन की ट्यूब साफ रखना आक्सीजन सपोर्ट के लिए इस्तेमाल होने वाला पानी स्टेरलाइज हो तो बेहतर है। फिलहाल देश में मयूकर माइकोसिस के 9000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं कैंडिडा और एस्पेरगिलस के मामले काम है विशेषज्ञ कहते हैं फंगल इन्फेक्शन के लक्षण दिखते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • देश में को वैक्सीन का बच्चों का ट्रायल कुछ दिनों में शुरू हो सकता है कई बड़े देशों में बच्चों को टीका देना शुरू हो गया है अब सवाल यह है कि क्या बच्चों को टीका देकर उनकी जिंदगी बचाई जा सकती है इसके जवाब अलग-अलग स्थिति के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं एक सवाल यह भी उठता है कि क्या बच्चों के बदले दूसरे देशों के वयस्कों और स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका देने से अधिक जिंदगियां बचाई जा सकती है वही एक तर्क यह भी दिया जा रहा है बच्चों को टीका देने से उन्हें इसका बहुत ज्यादा फायदा नहीं होगा। कारण बच्चों में गंभीर संक्रमण के कम मामले सामने आए हैं जबकि वयस्कों और बुजुर्गों में यह स्थिति बिल्कुल उलट है। इसलिए टीकाकरण में उन्हीं बच्चों को टीका देने की सलाह दी गई है जिन में संक्रमण का खतरा अधिक है या जिन पर बुरा असर पड़ सकता है इनमें गंभीर रूप से विकलांग बच्चे शामिल हैं वही बच्चों के टीकाकरण से हर्ड इम्यूनिटी पाना आसान हो सकता है। हालांकि छोटे बच्चों में संक्रमण का खतरा कम है पर 13 साल से अधिक के बच्चों में यह खतरा बढ़ जाता है । वहीं डब्लू एच ओ का कहना है अमीर देशों को बच्चों के टीकाकरण व स्थगित कर गरीब देशों को वैक्सीन दान करनी चाहिए अगर वैक्सीन की पर्याप्त सप्लाई होती तो कोई दिक्कत ना थी लेकिन ऐसा नहीं है। आगे क्या होता है यह समय पर छोड़ते है।
  • पेट्रोल डीजल के दाम में आज फिर बढ़ोतरी हुई।
  • कोरोना काल में ठंडे पानी का ज्यादा और बेवक्त सेवन करने को तकलीफ दे सकता है अतः खांसी और बुखार की समस्या भी हो जाती है इसलिए सामान्य पानी का सेवन करें जब बहुत तेज प्यास लग रही हो तब भी सामान्य पानी का इस्तेमाल करें और कूलर में बैठे रहने पर भी सामान्य पानी पीना ही सेहत के लिए सही होगा।
  • राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की आज कोरोना काल विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थियों के ऑनलाइन शिक्षण की व्यवस्था करने और आवश्यक ई कंटेंट उपलब्ध कराने को लेकर वेबीनार का आयोजन हुआ इसके अंतर्गत दिव्यांगों की शिक्षा के लिए कार्य कर रही स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ मिलकर ऐसी योजना बनाने पर मंथन हुआ जिससे कोरोना काल में इन विद्यार्थियों की शिक्षा में गतिरोध उत्पन्न ना हो और शिक्षण कार्य निरंतर जारी रखा जा सके ताकि वह समाज की मुख्यधारा से जुड़ सकें प्रदेश में 81457 दिव्यांग विद्यार्थी हैं जिन्हें चिन्हित कर शिक्षा से जोड़ना और शिक्षा को अनवरत जारी रखने के प्रयास किए जाएंगे।
  • Corona update Rajasthan today
    New cases: 3404
    Cumulative positive: 923860
    Active cases: 87530
  • Corona update udaipur today
    New cases:275
    Cumulative positive: 54762
    Cumulative discharged:48954
    Active cases:1903
    Home isolated: 4269
  • 26 मई बुद्ध पूर्णिमा के दिन बुधवार को पूर्ण चंद्रग्रहण का खगोलीय संयोग बना है यह वर्ष 2021 का पहला ग्रहण है जो दोपहर बाद 3:15 पर अस्ताचलगामी चंद्रमा पर शुरू होगा ग्रहण की समाप्ति उदीयमान चंद्रमा के साथ शाम 6:23 पर होगी। यह पूर्वी रशिया और चीन पूर्वी भारत इंडो चीन और श्रीलंका से दिखाई देगा भारतीय मान्यताओं के अनुसार दो अदृशय ग्रह राहु और केतु के साथ चंद्रमा के सहयोग से ग्रहण का असर होता है इस संयोग की अवधि 35 दिन लंबी होती है जिससे ग्रहण ऋतु कहते हैं 1 साल में दो बार ग्रहण ऋतु के सयोग बनते हैं इस दौरान अधिकतम तीन ग्रहण होते हैं।
  • पावर कट सूचना
    26 मई 2021 को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक न्यू रामगिरी , राय मगरी लंबी पीपली विनायक नगर और संबंधित क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति बंद रहेगी।
  • इग्नू के फार्म भरने की अंतिम तारीख 15 जून है
  • चक्रवात  यास के अत्यधिक भीषण तूफान के रूप में बदलने की आशंका कल सुबह ओडिशा के धाम रा बंदरगाह के पास पहुंचेगा इसके असर को कम करने के लिए 10 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है और सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है कोविड-19 संक्रमण में लगातार कमी दैनिक मामले 200000 से कम
  • सेंसेक्स
    बीएसई सूचकांक आज 14.37 अंकों की गिरावट के साथ 50637.53 पर बंद हुआ।
  • वहीं निफ्टी 10.75 अंकों की बढ़त लेकर 15208.45 पर बंद हुआ।
  • सराफा
    उदयपुर में दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे
    सोना 22 कैरेट 1 ग्राम 4681 रुपए
    सोना 24 कैरेट 1 ग्राम ₹4918
    चांदी 1 किलो बार का भाव रहा ₹76200
  • मौसम
    आज शहर का तापमान रहा अधिकतम 37 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 26 डिग्री सेल्सियस
  • तो ये थी अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…

Leave a Reply

Your email address will not be published.