• Mon. Jun 21st, 2021

    Udaipur News

    Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

    Udaipur Latest News 30 May 2021| उ द य पु र की ता जा ख ब र News 30 May 2021 | उदयपुर की ता जा ख ब र News 30 May 2021

    Byadmin

    May 30, 2021
    0 0
    Read Time:15 Minute, 3 Second
    • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर है आज की अपडेट्स लेकर…
    • कोरोना से स्वस्थ होने की दर बढ़कर 91.25% हुई। अब तक देश में 21 करोड़ से अधिक कोविड-19 टीके लगाए गए।
    • क्वेरी
      केस अब कम हो रहे हैं लेकिन क्या सावधानी रखें कि केस दोबारा ना बढे?
      विशेषज्ञ कहते हैं इसके लिए हमेशा कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर का पालन करते रहे। तीसरी लहर की संभावना बनी हुई है। लॉक डाउन खुलता है तो ऐसे में भी बाहर ना जाए अनावश्यक रूप से। और मास्क लगाए रखें।
    • कई लोगों को घर में रहते हुए भी कोरोना हो गया है। ऐसे में क्या सावधानी रखें?
      जानकार बताते हैं अगर कोई दरवाजे पर आता है तो पहले मास्क लगाएं फिर दरवाजा खोलें दूध वाला आया,या कोई भी हो अगर सामने वाले ने मास्क लगा रखा है और आपने भी मास्क लगाकर ही सामान लिया है तो ठीक रहेगा या उन्हें कह दे कि वह सामान रख दे और उनके जाने के बाद मास्क लगाकर सामान उठा ले घर में अगर कोई बुजुर्ग हैं तो दूर रह कर ही बात करें ।कोई मेहमान आए तो पहले हैंडवाश कराये मास्क लगाकर की बात करें।
    • किसी व्यक्ति को अगर दो अलग-अलग कंपनी की वैक्सीन लग गई है तो क्या खतरा है?
      विशेषज्ञ बताते हैं हमारे देश में एक ही कंपनी की दोनों खुराक लगाने की गाइडलाइंस है। लेकिन अगर ऐसा कहीं हुआ है तो खतरे की बात नहीं है पर एंटीबॉडी शरीर में कैसा रिएक्शन करेगी अभी कुछ कह नहीं सकते रिसर्च चल रही है रिपोर्ट आने पर कुछ बता सकते हैं। लेकिन अगर ऐसा हुआ है तो 1 महीने बाद अपना एंटीबॉडी लेवल चेक करा सकते हैं।
    • घर में एक से ज्यादा मरीज संक्रमित हैं तो क्या एक रूम में रह सकते हैं?विशेषज्ञ कहते हैं जी हां रह सकते हैं । लेकिन ध्यान रखिए पर्सनल केयर की चीजें जैसे मास्क ,कपड़े ,खाने के बर्तन अलग रखें। थर्मामीटर को साबुन पानी से वॉश कर लें। पल्स ऑक्सीमीटर उंगली में लगाने से पहले सेनेटाइज कर ले और प्रयोग के बाद हाथ भी सैनिटाइज कर ले।
    • क्या जिंक की दवा लेने से म्यूकर माइकोसिस बीमारी बढ़ रही है?
      विशेषज्ञ बताते हैं म्यूकर माइकोसिस के कारणों को लेकर अभी शोध चल रहा है लेकिन ध्यान रखिए कि अगर कोरोना हुआ है तो खुद से कोई भी विटामिन एंटीबायोटिक मल्टीविटामिन या जिंक आदि की दवा खुद से ना ले। ये दवा कोरोना मैं फायदा पहुंचाती है इसका कोई प्रमाण नहीं है। वही ज्यादा लेने से आने वाले समय में आपके शरीर पर प्रभाव डाल सकती हैं अतः बिना डॉक्टर के कहे ऐसी दवाएं बेहिसाब ना मिले।
    • कोरोना से संबंधित प्रश्नों के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की राष्ट्रीय हेल्पलाइन है -1075
    • कोरोना के ठीक होते होते बच्चों में एम आई एस के केस बढ़ रहे हैं हालांकि अभी यह रेयर है लेकिन जिनमें बच्चों में यह हो रहा है उसकी वजह का अब तक पता नहीं लगाया जा सका है देश के अलग-अलग राज्यों में बच्चों को हो रहे मल्टीसिस्टम इनफिलामेंट्री सिंड्रोम को लेकर चिंता है इससे 4 से 18 साल तक के बच्चे प्रभावित हो रहे हैं जिन्हें कोरोना हो चुका है ।हालांकि कुछ मामलों में 6 महीने के बच्चों में भी इसका असर देखा गया है। एम आई एस सी एक खतरनाक बीमारी है जिसे कोरोना से जोड़कर देखा जा रहा है इस बीमारी से बच्चों के ह्रदय फेफड़े गुर्दे आते मस्त और आंखों पर असर हो सकता है कुछ बच्चों में गर्दन का दर्द शरीर पर दाने होना आंखों का सुर्ख होना और लगातार थकान रहने जैसी शिकायतें भी देखी गई है वहीं सभी बच्चों में एम आई एस सी के लक्षण एक जैसे हो यह जरूरी नहीं अमेरिका मैं जून 2020 से इस बीमारी के कई मामले सामने आ चुके हैं शोधकर्ताओं ने पाया कि इस बीमारी के बाद अस्पताल में रहने का औसत समय 7 से 8 दिन रहा सभी बच्चों को बुखार था 73% बच्चों को पेट दर्द या डायरिया की शिकायत थी 68% बच्चों को उल्टियां भी हो रही थी यह एक प्रोग्रेसिव बीमारी है जिसकी शुरुआत छोटे-छोटे लक्षणों से होती है लेकिन बिना इलाज के यह बहुत तेजी से बढ़ती है और इससे कई अंग प्रभावित होकर एक साथ काम करना बंद कर सकते हैं हालांकि शोधकर्ता अब तक इसकी जानकारी नहीं जुटा पाए हैं कि किन बच्चों में यह बीमारी ज्यादा हो रही है या क्यों हो रही है हालांकि जिन बच्चों में एमआईएससी के लक्षण पाए गए हो या तो कभी कोरोनावायरस से प्रभावित थे या किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में थे जिससे कोरोना हुआ था। शोधकर्ता इस पर अध्ययन कर यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि यह बीमारी आखिर किस तरह से असर कर रही है उनके अनुसार यह संभावित रूप से एक घातक बीमारी है लेकिन सही समय पर पहचान और सही उपचार से अधिकांश बच्चों को बचाया जा सकता है हालांकि इसके दीर्घकालिक परिणाम अभी ज्ञात नहीं है इस समस्या के लक्षणों की सही पहचान का महत्व समझाते हुए इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स इंटेंसिव केयर ने कहा है कि कोरोना संक्रमित हो चुके परिवार अपने बच्चों में एमआईएससी जैसे लक्षण पाए तो उन्हें डॉक्टर से इस बारे में बात जरूर करनी चाहिए। कम कीमत पर होने वाली खून की जांच हो जैसे सीबीसी ईएसआर और सीआरपी के जरिए भी इसका पता लगाया जा सकता है। वही सीआरपी टेस्ट तुलनात्मक रूप से सस्ता भी है। गौरतलब है कि देश में 26% आबादी 14 साल की उम्र से कम है इनमें से आधी आबादी की उम्र 5 साल से कम है। विशेषज्ञ कहते हैं देश में कोरोना की तीसरी लहर संभावित रूप से बच्चों को ज्यादा परेशान कर सकती है ऐसे में बच्चों के लक्षणों पर विशेष ध्यान देना जरूरी है।
    • विश्व मौसम विज्ञान संगठन द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2025 तक कोई 1 वर्ष पूर्व औद्योगिक काल से 1. 5 डिग्री तक गर्म हो सकता है यह तापमान जलवायु परिवर्तन पर पेरिस समझौते के तहत निर्धारित दो तापमान सीमाओं से कम है मौसम विज्ञानियों के अनुसार धरती का तापमान बढ़ने से बेमौसम बरसात जंगलों की आग चक्रवात और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं के आने की संभावना रहती है जब हम 1850 से 1900 के समय के तापमान से तुलना करते हैं तो अंतर साफ दिखाई देता है कि इस दौरान तापमान बढ़ा है ताजा अध्ययन बताता है कि हम डेढ़ डिग्री के करीब पहुंच रहे हैं यह समय कुछ कड़े निर्णय लेने का है ताकि समय हमारे हाथ से निकल ना जाए हालांकि अगले 5 वर्षों में से किसी एक वर्ष में तापमान इस तरह बढना भी एक अस्थाई अवस्था है अब हमारे पास तो सिर्फ एक या दो दशक का समय है जब हम पूरी तरह डेढ़ डिग्री सेल्सियस की सीमा को हमेशा के लिए पार कर देंगे पेरिस समझौते के तहत विश्व की औसत तापमान में 2 डिग्री सेल्सियस से अधिक वृद्धि ना होने देना और डेढ़ डिग्री सेल्सियस को पार ना करने के प्रयास करने का लक्ष्य प्रस्तावित हुआ था यह लंबे समय के लिए है। अतः एक ही साल में डेढ़ डिग्री सेल्सियस के बदलाव से ना सिर्फ पेरिस समझौते का उल्लंघन होता है बल्कि हम सबके लिए एक अच्छा खबर तो नही ही है क्योंकि हमारे जलवायु की सुरक्षा के लिए किए गए प्रयास नाकाफी हैं और हमें कार्बन उत्सर्जन को जल्द से जल्द होने तक लाना चाहिए ताकि जलवायु परिवर्तन को रोका जा सके ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के प्रयास होने चाहिए और कार्बन न्यूट्रल बनना चाहिए साल 2016 में भी तो अलग-अलग महीनों के तापमान में डेढ़ डिग्री सेल्सियस का उछाल देखा गया था जैसे-जैसे तापमान बढ़ेगा 1 साल में ज्यादा गर्म महीनों की संख्या बढ़ेगी फिर ऐसा और ज्यादा होगा तो शायद तापमान दो-तीन साल के लिए बढ़ जाएगा और कुछ समय बाद हर साल के लिए तापमान बढ़ा हुआ ही रहेगा। विशेषज्ञों के अनुसार डेढ़ डिग्री कोई जादुई नंबर नहीं है जिससे हमें दूर रहना है अगर इसकी तुलना साधारण जीवन से की जाए तो जलवायु परिवर्तन किसी खाई की तरह नहीं है जो एक किनारे पहुंचकर हम नीचे गिर जाएंगे बल्कि हम एक ढलान पर हैं और जैसे-जैसे नीचे पहुंच रहे हैं वैसे वैसे चीजे हमारे लिए खराब हो रही हैं हमें बढ़ते तापमान को रोकना ही होगा नहीं तो इसका असर पूरी दुनिया में देखा जा सकेगा और यह खराब ही होगा।
    • प्रसार शिक्षा निदेशालय महाराणा प्रताप कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उदयपुर द्वारा कृषि विज्ञान केंद्र चित्तौड़गढ़ के माध्यम से चित्तौड़ के प्रगतिशील कृषकों के लिए कृषि में मशीनीकरण का महत्व विषय पर व्याख्यान और परिचर्चा कार्यक्रम आयोजित हुआ इसका उद्देश्य किसानों को कृषि में मशीनीकरण के महत्व और उन्हें आधुनिक कृषि यंत्रों को अपनाने के लिए प्रेरित करना था कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से लगभग 180 कृषक हो और वैज्ञानिकों ने भाग लिया।
    • चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग द्वारा 31 मई विश्व तंबाकू दिवस पर सुबह 10:00 से 12:00 बजे तक वर्चुअल कार्यशाला का आयोजन होगा जिसमें चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री स्वास्थ्य संबंधी और कोरोना संबंधी संदेश देंगे राज्य का हर नागरिक इस कार्यशाला से जुड़ सकता है इसके लिए यूट्यूब लिंक एनएचएम राजस्थान को सब्सक्राइब कर ज्वाइन किया जा सकेगा।
    • मुख्यमंत्री कैदियों के प्रति समाज का नजरिया बदलने के लिए बनाई गई फीचर फिल्म रोड टू रिफॉर्म को 31 मई को शाम 5:00 बजे अपने आवास से वरचूअली रिलीज करेंगे। महानिदेशक कारागार की ओर से रचित थीम पर आधारित लगभग 1 घंटे की इस फीचर फिल्म का निर्माण मुंबई के मशहूर निर्देशक ने किया है इसकी विशेषता यह है कि इसमें अभिनय करने वाले सभी पात्र जेल विभाग के अधिकारी कर्मचारी और बनती हैं गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में राजस्थान कारागार विभाग बंदियों के कल्याण सुधार और पुणे स्थापन की ओर कार्य कर रहा है इस फिल्म में समाज का आह्वान किया गया है कि वह बंधुओं को रिहाई के बाद उनके सुधार और पुणे स्थापन में अपनी भूमिका का निर्वहन करें।
    • Corona update Rajasthan today
      New cases: 2298
      Cumulative positive:938460
      Active cases: 49224
    • Corona update udaipur today
      New cases:107
      Cumulative positive:55546
      Cumulative discharged:52085
      Active cases:2812
      Home isolated:2089
    • पावर कट सूचना
      31 मई 21 को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक शोभाग पुरा चौराहा, ज्योति नगर सूर्या कंपलेक्स विनायक कंपलेक्स गढ़ मगरी और आसपास के क्षेत्रों में बिजली बंद रहेगी।
    • मौसम
      उदयपुर का तापमान रहा अधिकतम 37 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 24 डिग्री सेल्सियस
      तो ये थीं अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…
    Happy
    Happy
    0 %
    Sad
    Sad
    0 %
    Excited
    Excited
    0 %
    Sleppy
    Sleppy
    0 %
    Angry
    Angry
    0 %
    Surprise
    Surprise
    0 %

    Average Rating

    5 Star
    0%
    4 Star
    0%
    3 Star
    0%
    2 Star
    0%
    1 Star
    0%

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *