• Tue. May 28th, 2024

Udaipur News

Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

Udaipur Latest News Tuesday 02 January 2024 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur latest News Tuesday 02 January 2024 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur Latest News Tuesday 02 January 2024

Byadmin

Jan 2, 2024
  • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर हैं आज की अपडेट्स लेकर…..
  • मध्‍य जापान के इशिकावा क्षेत्र में कल आए भीषण भूकंप में कम से कम 48 लोगों की मृत्‍यु की पुष्टि हुई है। आपदा में जीवित बचे लोगों की तलाश जारी है। 7.6 तीव्रता वाले भूकंप का केंद्र जापान के इशिकावा प्रांत में नोतो में था।इस बीच, जापान ने देश में भूकंप के कई बड़े झटकों के बाद जारी सुनामी की उच्चतम चेतावनी वापस ले ली है, लेकिन घातक लहरें उठने की आशंका के कारण तटवर्ती क्षेत्रों के लोगों को अभी घरों में वापस न लौटने की सलाह दी है। सरकार ने प्रभावित क्षेत्रों में सहायता के लिए आत्‍मरक्षा बलों की टुकड़ियां पहले ही भेज दी हैं और वहां सहायता जारी रखी जाएगी।कल इशिकावा प्रांत के नोतो प्रायद्वीप में भूकंप के कई तेज झटके महसूस किए गए, जिनमें से एक सबसे बड़े भूकंप की तीव्रता 7.6 मापी गई थी। जापान की मौसम एजेंसी ने इसका नामकरण ‘2024 का नोतो प्रायद्वीप भूकंप’ किया है। जापान में कल से अब तक भूकंप के 155 झटके महसूस किए गए हैं।जापान में भारतीय दूतावास ने एक आपातकालीन नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है और भारतीय नागरिकों के लिए आपातकालीन फोन नंबर और ई-मेल आईडी जारी किए हैं, जो इस प्रकार हैः 81-80-3930-1715, 81-70-1492-0049, 81-80-3214-4734, 81-80-6229-5382, और 81-80-3214-4722। ई-मेल आईडी हैः [email protected]<mailto:[email protected]>, और [email protected] <mailto:[email protected]> .विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारतीय दूतावास वहां के अधिकारियों के साथ लगातार संपर्क में है। उसने लोगों से स्थानीय प्रशासन के निर्देशों का पालन करने को कहा है।
  • जापान एयरलाइंस का एक विमान आज तटरक्षक विमान से टकराने के बाद तोक्यो के हनेदा हवाई अड्डे पर दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया। जापान एयरलाइंस के विमान के सभी तीन सौ उनासी यात्री और चालक दल के सदस्य सुरक्षित निकाल लिए गये, लेकिन तटरक्षक विमान के छह चालक दल में से पांच की मृत्‍यु हो गई।तटरक्षक बल ने कहा कि यह विमान भूकंपग्रस्‍त क्षेत्रों में सहायता पहुंचाने के लिए जापान के पश्चिमी तट पर निगाटा हवाई अड्डे की ओर जा रहा था। परिवहन मंत्री ने पुष्टि की कि तटरक्षक विमान का कैप्टन घायल हो गया है। जापान एयरलाइंस के प्रवक्ता ने कहा कि उनका विमान न्यू चिटोस हवाई अड्डे से रवाना हुआ था।

     

  • गृह मंत्रालय के अधिकारियों के साथ अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ की नई दिल्‍ली में बैठक चल रही है। बैठक में भारतीय न्‍याय संहिता के अंतर्गत हिट एण्‍ड रन मामलों के नये प्रावधानों को लेकर ट्रांसपोर्टरों की चिंता से जुडे मुद्दों पर चर्चा की जा रही है। बैठक की अध्‍यक्षता गृह सचिव कर रहें हैं।संसद में हाल मे पारित भारतीय न्‍याय संहिता के अंतर्गत हिट एण्‍ड रन मामलों में सात लाख रूपये का जुर्माना और दस साल कैद की सजा का प्रवधान किया गया है। ट्रक, टेक्‍सी और बस ओपरेटरों ने इसके विरूद्ध तीन दिन की हडताल शुरू की है। अखिल भारतीय मोटर वाहन संघ ने कहा है कि इन प्रावधानों से वाहन चालकों को अनावश्‍यक रूप से परेशान किया जाएगा और इसे वापस लिया जाना चाहिए।

    इस बीच गृह मंत्रालय के सूत्रों ने कहा है कि सर्वोच्‍च न्‍यायालय के आदेशों के अनुरूप हिट एण्‍ड रन मामलों में सजा की अवधि बढा कर दस साल की गई है। सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने कई मामलों में कहा था कि लापरवाह होकर वाहन चलाने वाले चालक दुर्घटनाएं करते है जिससे किसी की जान चली जाती है और फिर वह घटना स्‍थल से भाग जाते हैं।

    हडताल की वजह से ईंधन की आपूर्ति प्रभावित हुई है तथा इस अस्‍थाई रूकावट के दौरान ईंधन की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने के लिए कुछ जगहों पर इसकी आपूर्ति की व्‍यवस्‍था की जा रही है।

  • हिट एंड रन’ मामले में सज़ा के नए प्रावधानों के ख़िलाफ़ ट्रक, टैक्सी और बस ऑपरेटरों के संगठनों ने देश भर में हड़ताल शुरू कर दी है.

    संसद में हाल में लाए गए भारतीय न्याय संहिता के तहत आपराधिक मामलों में सज़ा के नए प्रावधान किए गए हैं.

    कानून के तहत ‘हिट एंड रन’ केस में ड्राइवरों को दस साल की कैद और सात लाख रुपये जुर्माने का प्रावधान है.

    अभी तक ट्रक या डंपर से कुचलकर किसी की मौत हो जाती थी तो लापरवाही से गाड़ी चलाने का आरोप लगता था और ड्राइवर को जमानत मिल जाती थी.

    हालांकि इस कानून के तहत दो साल की सजा का प्रावधान है लेकिन अब नया कानून काफी सख्त हो गया है और इससे ड्राइवर और ट्रक, टैक्सी, बस ऑपरेटर भड़के हुए हैं.

    नया कानून अभी लागू नहीं हुआ है, लेकिन ड्राइवरों में इसका काफी खौफ़ है. उन्हें लग रहा है कि नया कानून लागू होने के बाद उनके लिए गाड़ी चलाना मुश्किल हो जाएगा, क्योंकि दस साल की कैद और सात लाख जुर्माने की सजा काफी कड़ी है.

     बाहरी इलाके में हड़ताल कर रहे टैंकरों के ड्राइवरों ने  कहा कि एक तो उन्हें इतना पैसा नहीं मिलता कि वे इतना भारी जुर्माना दे सकें. दूसरा, उन्हें नए कानून से भारी प्रताड़ना का डर है. दस साल की कैद की सजा काफी ज्यादा है.

    नए कानून के ख़िलाफ़ ट्रक, टैक्सी और बस ऑपरेटरों का गुस्सा अब सड़कों पर दिखने लगा है. पूरे देश में एक कोने से दूसरे कोने तक ट्रक और बस चालकों ने चक्का जाम कर दिया है.

    इससे देश के कई प्रमुख राजमार्गों पर रुके हुए ट्रकों की कतार देखी जा रही है. महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और बिहार समेत देश के लगभग सभी राज्यों में हड़ताल का असर दिख रहा है.

    नए हिट एंड रन कानून के विरोध में प्रदेश भर के ट्रक, डंपर, बस और ऑटो चालकों ने आंदोलन शुरू कर दिया है.  इसका असर देखने को मिलने लगा है.  बाहर से आने वाले वाहनों के पहिए थम गए हैं, जिससे अब आमजन में भी थोड़ा से डर देखने को मिलने लगा है. चाहे किराने की बात करें या सब्जी और फल फ्रुट की. लोगों ने स्टॉक करना शुरू कर दिया है, जिसकी वजह से आम दिनों की बजाय मंगलवार को भाव भी दोगुने हो गए हैं.

    कल तक जो सब्जी बाजार में ₹40 किलो बिकती थी, वह आज 60 से 70 रुपए किलो तक हो गई है. वहीं सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि आने वाले अगर एक-दो दिन में सब्जियां अगर मंडी में नहीं आएगी तो भाव चौगुने तक हो जाएंगे जिसका असर आम लोगों पर पड़ेगा. उधर, अपनी सब्जियों को बेचने के लिए आने वाले किसानों के चेहरे पर भी चिंता की लकीरें देखी जा रही हैं. किसानों का कहना है कि उन्हें मंडी में सब्जियां लाने के लिए वाहन नहीं मिल रहे हैं. ऐसे में उनकी फसलें और सब्जियां खेत में पड़ी पड़ी खराब हो रही है. लोगों ने इन सबको ध्यान में रखते हुए अभी से सामान एकत्र करना शुरू कर दिया है, ताकि उनको बाद में किसी तरह की समस्या ना हो. इसकी वजह से अब सामान के दाम भी बढ़ गए हैं.

    नए सुरक्षा के नियमों को देखते हुए विरोध तो नहीं है लेकिन अघोषित हड़ताल का असर जरूर रोडवेज, ट्रक ड्राइवरों पर नजर आ रहा है. शहर की कृषि उपज मंडी में भी बाहर से आने वाले ट्रक अभी बंद हो गए हैं. अगर बात करें रोडवेज की तो सरकारी बसों के साथ निजी बसों का संचालन तो चल रहा है, लेकिन बस ड्राइवर को भी पता नहीं है कि वह गंतव्य स्थान तक पहुंच पाएंगे या नहीं. ऐसे में रोडवेज बस स्टैंड पर ड्राइवर यात्रियों से पहले ही कह देते हैं, कि अगर कहीं रास्ते में जाम लगा हुआ होगा तो उन्हें नजदीकी डिपो पर ही उतार दिया जाएगा. ऐसे में बसों में यात्रा करने वाले यात्री भी काफी परेशान हो रहे हैं, जबकि रोडवेज का कहना है कि उनकी सबसे पहले प्राथमिकता यात्रियों की सुरक्षा होती है. और जगह-जगह रास्ते में जाम होने के कारण वह कोई रिस्क नहीं ले सकते. लेकिन सरकारी वाहन है इसलिए ड्यूटी भी करनी पड़ेगी लेकिन यात्रियों की जान जोखिम में नहीं डाल सकते.

    सरकार के हिट एंड रन को लेकर नए कानून के विरोध में देशभर में ड्राइवर सड़कों पर उतर गए हैं. राजस्थान में भी ड्राइवरों का विरोध-प्रदर्शन जारी है. इससे कई शहरों में चक्का जाम जैसी स्थिति बन गई है. इस बीच राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम लिमिटेड (रोडवेज) के प्रबंध निदेशक ने मंगलवार को सभी मुख्य प्रबंधकों से राष्ट्रीय राजमार्ग जाम और प्रदर्शन के कारण बाधित रूट का फीडबैक लिया. जिसके बाद राजस्थान में वैकल्पिक रूट से रोडवेज बसें चलाने के निर्देश दिए गए.

    इस संबंध में जारी बयान के अनुसार  बसों के संचालन की लगातार निगरानी कर यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और संचालन को अनवरत रूप से जारी रखने के निर्देश दिए.  निगम द्वारा यात्रियों की सुखद और सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यकतानुसार वैकल्पिक रूट के माध्यम से भी बसों का संचालन किया जा रहा है. इसी प्रकार निगम की अंतरराज्यीय बसों का संचालन भी यथावत जारी रहा.

    मालूम हो कि केंद्र सरकार के नए कानून में ‘‘हिट एंड रन” के मामलों में सख्त सजा के प्रावधानों के खिलाफ ट्रक एवं निजी बस चालकों की हड़ताल के कारण कई जगह ‘चक्का जाम’ जैसी स्थिति सामने आई है. जिससे आम लोगों की परेशानी बढ़ गई है. सब्जी, दूध जैसी जरूरी चीजें नहीं पहुंच पा रही है. इससे इन सब की कीमत भी आसमान छूने लगी है. प्रदेश में जाम और प्रदर्शन की वजह से अजमेर, अलवर-राजगढ़, उदयपुर-मंगलवाड, बेगू-गोपालपुरा, डूंगरपुर-सागवाड़ा,भरतपुर-लोहागढ, राजसमंद, प्रतापगढ बस स्टैंड समेत कुछ जगह जाम के चलते बसों के संचालन में देरी का सामना करना पड़ा.

    नए हिट एंड रन कानून के विरोध में बस और ट्रक ड्राइवरों की बेमियादी हड़ताल के चलते जहां देश भर में यातायात व्यवस्था चरमारा गई हैं तो वहीं देश में इस से व्यापार को भी खासी क्षति पहुँच रही हैं।

    इसके अतिरिक्त अब धीरे धीरे सभी जरुरत की चीजों में एक जरूरी चीज माने जाने वाले पेट्रोल और डीजल की सप्लाई भी ठप हो जाने से पेट्रोल पंप मालिकों की के माथे पर भी चिंता की लकीरें दिखने लगी हैं हैं।उदयपुर के पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के सचिव ने कहा की वह लोगों कों पेट्रोल -डीजल उपलब्ध करवाने के लिए हमेशा तत्पर हैं, जितना स्टॉक उपलब्ध हैं तब तक वह उपलब्ध करवाएंगे लेकिन कुछ समय तक अगर सप्लाई शुरू नही हुई तो हालात बदतर हो जाएंगे। उन्होने पुलिस और प्रशासन से भी इस ओर ध्यान देने कों कहा हैं।उदयपुर के पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के सचिव  ने बताया की चालकों की हड़ताल का सीधा असर पेट्रोल पंप संचालकों पड़ा हैं क्योंकी चारों कंपनियों के डिपो से चालाकों ने फ्यूल लाने से मना कर दिया हैं। ऐसे में टेंकर नही आने से फ्यूल नही आ पा रहा और ऐसे में पेट्रोल पंप ड्राई होना स्वाभाविक हैं।

    उन्होंने बताया की रविवार तक तो सप्लाई आई थी लेकिन मंगलवार से संपलाई आना बंद हो गई और इसके चलते उदयपुर में पेट्रोल पंप ड्राई होना शुरू हो गए हैं। कुछ ऐसे पेट्रोल पंप है जो ड्राई हो चुके है और ज़िले में कुछ ऐसे पेट्रोल पंप हैं जिनसे ऐसी ही स्थित उत्पन्न होने की सुचना मिली हैं।

    राजस्थान के पश्चिमी छोर पर बसे जैसलमेर में नववर्ष के आगमन के साथ ही राजस्थान पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स भी सतर्क हो गई है. अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस अपराध एवं एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स  के निर्देशन में एक बड़ी कार्रवाई हुई. जैसलमेर के सम थाना क्षेत्र के एक रिसोर्ट से पुलिस ने सरकार गैंग के सरगना सहित चार बदमा

    सरकार गैंग नागौर और जोधपुर जिलों में अधिकतर घटनाओं को अंजाम दे चुकी है. सरकार गैंग मारवाड़ क्षेत्र में ज्यादा सक्रिय है. नागौर और जोधपुर जिलों में अधिकतर घटनाओं को अंजाम देती हैं. इस गैंग के खिलाफ लूट, हत्या का प्रयास, चोरी, मारपीट, धोखाधड़ी के कई प्रकरण विभिन्न थानों में दर्ज है.

     

     

    खराब मौसम की वजह से महाराणा प्रताप एयरपोर्ट से जयपुर और भोपाल के लिए उड़ान भरने वाली इंडिगो फ्लाइट को मंगलवार को कैंसिल करना पड़ा है। मुम्बई, दिल्ली, हैदराबाद और बैंगलुरु की फ्लाइट 2 से 3 घंटे तक डिले है।इस वजह से एयरपोर्ट पर पैसेंजर की भारी भीड़  है।

    राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित नए साल की पहली बड़ी भर्ती परीक्षा रविवार को होगी। कॉलेज शिक्षा विभाग की सहायक आचार्य, पुस्तकालयध्यक्ष एवं शारीरिक प्रशिक्षण अनुदेशक परीक्षा-2023 के लिए जिला कलक्टर अरविन्द पोसवाल के निर्देशन में तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं। परीक्षा के दौरान व्यवस्थाएं चाकचौबंद रखने के लिए व्यापक बंदोबस्त किए जा रहे हैं। परीक्षा तैयारियों को अंतिम रूप देने 5 जनवरी को दोपहर 2.30 बजे राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय रेजीडेन्सी सभागार में होगी।

    परीक्षा 7 जनवरी 2024 को दोपहर 12 से 2 बजे तक आयोजित होगी। उदयपुर जिले में संभाग के कुल 25 हजार 320 अभ्यर्थी परीक्षा में भाग लेंगे। इसके लिए 81 परीक्षा केंद्र स्थापित किए गए हैं। प्रत्येक कक्ष में 24 अभ्यर्थियों की बैठक व्यवस्था रखी जाएगी। परीक्षा को शांतिपूर्ण एवं पूर्ण पारदर्शिता से संपन्न कराने के लिए व्यापक व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

    जिला कलक्टर कार्यालय के कमरा नंबर 126 में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है, जिसके प्रभारी  (मो. 9414831136) तथा दूरभाष नंबर 0294-2413278 है। जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक  को अतिरिक्त समन्वयक नियुक्त किया गया है। इनके अलावा 27 उपसमन्वयक भी बनाए गए हैं। परीक्षा केंद्र में परीक्षा प्रारंभ होने के समय से एक घंटा पूर्व तक ही प्रवेश दिया जाएगा। साथ ही प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर दो-दो वीडियोग्राफर की भी व्यवस्था रहेगी। एक वीडियोग्राफर प्रवेश द्वार तथा दूसरा केंद्र के अंदर रहेगा। सभी राजकीय परीक्षा केंदों पर एक-एक तथा निजी केंद्रों पर दो-दो पर्यवेक्षक भी तैनात किए जाएंगे। इसके अलावा तीन सदस्यीय सतर्कता दलों का भी गठन किया जा रहा है, इसमें एक राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी, एक पुलिस सेवा के अधिकारी तथा एक जिला शिक्षाधिकारी समकक्ष के अधिकारी शामिल रहेंगे।

  • महिला क्रिकेट में आज भारतीय टीम एक-दिवसीय श्रृंखला के तीसरे और आखिरी मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुकाबले में उतरी है। यह मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में भारतीय समय अनुसार दिन में डेढ़ बजे से शुरू हो चुका है।ऑस्‍ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी करने का निर्णय किया है। मालूम हो कि इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम सीरीज में पहले ही 2-0 की अपराजेय बढ़त ले चुकी है।
  • 67वीं राष्ट्रीय विद्यालयी कबड्डी प्रतियोगिता के तहत 17 वर्ष आयु छात्रा संवर्ग के मुकाबले बुधवार से जयपुर के सवाई मानसिंह इंडोर स्टेडियम में आरम्भ होंगे।इस प्रतियोगिता के 03 से 08 जनवरी तक आयोजित होने वाले मुकाबलों में देशभर से 29 टीमें शिरकत कर रही है, जिनमें 348 छात्राएं और 87 आफिशियल शामिल है।

  •  बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक आज तीन सौ 79 अंक गिरकर 71 हजार 892 पर बंद हुआ। उधर, नेशनल स्‍टॉक एक्‍सचेंज का निफ्टी भी 76 अंक घटकर 21 हजार छह सौ 66 पर आ गया।
  • ।उदयपुर में दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे
  • सोना 22 कैरेट 1 ग्राम₹  5959 सोना 24 कैरेट 1 ग्राम ₹ 6278
    चांदी 1 किलो बार का भाव रहा ₹₹ 80300
  • मौसम
  • राजस्थान के अधिकतर हिस्सों में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है और मंगलवार की सुबह की शुरुआत भी घने कोहरे के साथ हुई. मौसम विभाग के अनुसार राजधानी जयपुर सहित राज्य के अनेक हिस्सों में घना कोहरा छाया हुआ है. मौसम केंद्र जयपुर के अनुसार, मंगलवार को सुबह भी राज्य के कुछ भागों में घने से अति घना कोहरा छाया रहा. राजधानी जयपुर के हवाई अड्डे पर आज एक बार फिर दृश्यता (विजिबिलिटी) 50 मीटर दर्ज की गई.

    बीते चौबीस घंटे में राज्य के कुछ भागों में शीत दिन जबकि अलवर, बीकानेर, गंगानगर और हनुमानगढ़ में ‘अति शीत दिन’ दर्ज किया गया. बीती रात न्यूनतम तापमान सीकर में 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. वहीं फलोदी में यह 4.8 डिग्री, करौली में 5.2 डिग्री, जैसलमेर में 5.4 डिग्री, पिलानी में 5.7 डिग्री, सिरोही में 6.0 डिग्री, धौलपुर में 6.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. राजधानी जयपुर में न्यूनतम तापमान 6.8 डिग्री सेल्सियस रहा.कड़ाके की सर्दी का असर सामान्य जनजीवन पर पड़ा है. अनेक जगह लोग अलाव जला कर सर्दी से बचने की कोशिश करते नजर आए. घने कोहरे के कारण राजमार्गों व अन्य प्रमुख मार्गों पर वाहन धीमी गति से चलते दिखे. मौसम केंद्र के अनुसार, राज्य में सर्दी का यह दौर अभी जारी रहने का अनुमान है.

    राजस्थान के कई जिलों में हाड़ कंपाने वाली सर्दी का असर दिख रहा है. हालात ऐसे है कि ठंड की वजह से लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है. वहीं प्रदेश के कई जिलों में सर्दी और कोहरे के लिए चेतावनी जारी किया गया है. इसके साथ ही मौसम विभाग की ओर से किसी तरह की राहत की खबर नहीं आई है. बताया जा रहा है कि 8 जनवरी से एक नया विक्षोभ सक्रिय होने वाला है.

    मौसम विभाग ने कहा है कि आगामी तीन-चार दिन और भी ज्यादा घना कोहरा होने की संभावना है. शीतलहर की परिस्थितियां जारी रहेगी. जबकि 8 जनवरी से एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने की संभावना है.

    मौसम विभाग के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में जयपुर, बीकानेर, अजमेर, भरतपुर, कोटा संभाग के कुछ भागों में घने से अतिघना कोहरा दर्ज किया गया है. कोहरे के प्रभाव से अधिकतम तापमान औसत से 3 से 8 डिग्री नीचे दर्ज किया गया है. जबकि सबसे कम अधिकतम तापमान पश्चिमी राजस्थान के गंगानर में 11.5 डिग्री और पूर्वी राजस्थान कोटा में 14.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया है.

    मौसम विभाग के अनुसार, आगामी 48 घंटों के दौरान जोधपुर और उदयपुर संभाग के अधिकांश भागों को छोड़कर राज्य के ज्यादातर भागों में घने से अतिघना कोहरा दर्ज होने की संभावना है. इस दौरान विजिबिलिटी 200 मीटर से भी कम रिपोर्ट की जा सकती है. 5-6 जनवरी को भी घना कोहरा जारी रहने की संभावना है.

    बताया जा रहा है कि आगामी 48 घंटों के दौरान राज्य के अधिकांश भागों में अधिकतम तापमान औसत से 3 से 7 डिग्री नीचे रहने की संभावना है. उत्तर पूर्वी और पश्चिमी राजस्थान के कुछ भागों में 2 से 4 जनवरी तक कोल्ड डे दर्ज होने की संभावना है.

    शीतलहर व पाले से फसलों को नुकसान होने की सम्भावना रहती है जिससे पौधों की पत्तियां व फूल झुलसकर झड़ जाते है एवं पौधों की फलियों-बालियों में दाने बनते नही हैं या सिकुड़ जाते हैं। उन्होंने बताया कि रबी की फसलों में फूल व बालियों के समय पाला पड़ने पर सर्वाधिक नुकसान की संभावना रहती है। इस समय किसानों को सतर्क रहकर फसलों की सुरक्षा के उपाय अपनाने चाहिए।

    शीतलहर व पाले से फसल की सुरक्षा के उपाय

    श्री स्वामी ने बताया कि फसलों को पाले से बचाने हेतु गंधक के तेजाब का 0.1 प्रतिशत अर्थात एक हजार लीटर पानी में एक लीटर सान्द्र गंधक का तेजाब का घोल तैयार कर फसलों पर छिड़काव करें अथवा घुलनशील गंधक के 0.2 प्रतिशत घोल का छिड़काव भी कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि नकदी सब्जी वाली फसलों में भूमि के तापमान को कम होने से बचाने के लिए फसलों को टाट, पॉलिथिन अथवा भूसे से ढक देना चाहिए। पाले के दिनों में फसलों में सिंचाई करने से भी पाले का असर कम होता है तथा पाले के स्थाई समाधान के लिए खेतों की उत्तर-पश्चिम दिशा में मेढ़ों पर घने ऊंचे वृक्ष लगायें।

    उल्लेखनीय है कि जब आसमान साफ हो, हवा न चल रही है और तापमान काफी कम हो जाये तब पाला पड़ने की संभावना बढ़ जाती है। दिन के समय दोपहर में पहले ठण्डी हवा चल रही हो व हवा का तापमान अत्यन्त कम होने लग जाये और  दोपहर बाद अचानक हवा चलना बंद हो जाये तब पाला पड़ने की आंशका बढ़ जाती है। पाले के कारण पौधों की कोशिकाओं में उपस्थित जल जमने से कोशिका भित्ति फट जाती है, जिससे पौधों की पत्तियां, कोंपलें, फूल एवं फल क्षतिग्रस्त हो जाते है।

     

  • उदयपुर में  पिछले 24 घंटों के दौरान  तापमान रहा अधिकतम 23 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम  11  डिग्री सेल्सियस
  • तो ये थीं अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…

Leave a Reply

Your email address will not be published.