• Fri. Jul 12th, 2024

Udaipur News

Udaipur News Today | Udaipur News Live | उदयपुर न्यूज़ | उदयपुर समाचार

Udaipur Latest News Wednesday 10 January 2024 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur latest News Wednesday 10 January 2024 उदयपुर की ताजा खबर Udaipur Latest News Wednesday 10 January 2024

Byadmin

Jan 10, 2024
  • हेलो फ्रेंड्स हम हाजिर हैं आज की अपडेट्स लेकर…..
  • आज विश्‍व हिंदी दिवस है। हिंदी भाषा को बढ़ावा देने के लक्ष्‍य के साथ प्रतिवर्ष यह दिवस मनाया जाता है। वर्ष 2006 में पहला विश्‍व हिंदी दिवस सम्‍मेलन नागपुर में आयोजित हुआ था। इसके बाद से प्रत्‍येक वर्ष दस जनवरी को विश्‍व हिंदी दिवस मनाया जाता है। विदेश मंत्रालय और विदेशों में भारतीय दूतावास भी प्रत्येक वर्ष हिंदी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित करते हैं।
  • के कैंडी में आईआईटी मद्रास का नया कैंपस शुरू होगा।  कैंपस शुरू करने के लिए आईआईटी की टीम के श्रीलंका आने से पहले उनका मंत्रालय शिक्षाविदों की एक टीम आईआईटी मद्रास भेजेगा।
  • राष्‍ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा – नीट पीजी 2024 अब सात जुलाई को होगी। राष्‍ट्रीय चिकित्‍सा विज्ञान परीक्षा बोर्ड ने नीट पीजी 2024 का संशोधित कार्यक्रम जारी कर दिया है। पहले यह परीक्षा तीन मार्च को होनी थी। परीक्षा की पात्रता के लिए कट ऑफ तिथि 15 अगस्‍त 2024 निर्धारित की गई है।
  • राष्‍ट्रीय स्‍तर की मेडिकल परीक्षा, नेशनल एक्जिट टेस्‍ट एक वर्ष के लिए विलंबित रहेगी और 2025 से कार्यान्वित होगी। राष्‍ट्रीय एक्जिट परीक्षा का उद्देश्‍य देश में मेडिकल लाइसेंसिंग और प्रवेश को व्‍यवस्थित करना है।
  • 26 जनवरी की परेड में इस बार एक विशाल विमान भी दिखेगा. इस विमान का नाम C 130 J सुपर हरक्यूलिस है. इसे इसी हफ़्ते रात को कारगिल एडवांस लर्निंग ग्राउंड पर उतारा गया था. पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा पर 10,500 फुट की ऊंचाई पर इसे उतारा गया. ये रणनीतिक तौर पर बहुत अहम है. विमान पर गरुड़ कमांडर थे. ये विमान चीन से लगे दौलत बेग ओल्डी एडवांस लैंडिंग ग्राउंड पर भी उतारा जा चुका है.

    दरअसल, ये बहुत छोटे रनवे पर उतर सकता है और ऊबड़-खाबड़ ज़मीन पर भी लैंड कर सकता है. इतना ही नहीं खराब से ख़राब मौसम में उड़ान भर सकता है.  ये दुनिया का सबसे आधुनिक ट्रांसपोर्ट विमान है. ये स्पेशल ऑपरेशन में भी काम आता है. सर्च और रेस्क्यू के काम में भी इसकी मदद ली जाती है. पैरा ड्रॉप से लेकर इलेक्ट्रॉनिक निगरानी तक इससे होती है,

    इस विमान से बड़ी संख्या में सैनिकों को तेज़ी से कहीं पहुंचाया जा सकता है. इस विमान की मदद से सैनिकों तक रसद और दूसरा सामान भी पहुंचाया जा सकता है. पूर्वी लद्दाख में 2020 में चीन के साथ तनाव के वक़्त इस विमान से तैनाती हुई थी.खास बात ये है कि इस विमान को अमेरिका की मार्टिन कंपनी ने बनाया है. अमेरिका सहित 20 से ज़्यादा देश इसका इस्तेमाल करते हैं.इस विमान की ऊंचाई क़रीब 12 मीटर है.ये 19 टन वज़न उठा सकता है.जबकि यह 643 किलोमीटर की रफ़्तार से उड़ सकता है. और एक बार में 3,334 किलोमीटर तक उड़ान भर सकता है.अब इस विमान को अपग्रेड किया जा रहा है ताकि ये दुर्गम इलाक़ों में और बेहतर ढंग से अपने काम को अंज़ाम दे सके. अमेरिका समेत 20 से अधिक देशो में इसका बखूबी इस्तेमाल होता है. 2011 में इसको वायुसेना में शामिल किया गया. . उत्तरकाशी में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए ड्रिल मशीन इसी विमान से भेजा गया था.

  • अमरीका में भीषण शीतकालीन तूफान से 12 प्रांतों के कारोबार और जनजीवन पर असर पड़ा है। चार लाख 18 हजार से अधिक घरों की बिजली गुल हो गयी है। फ्लोरिडा के अलावा जॉर्जिया और उत्‍तरी कैरोलिना भी तूफान की चपेट में हैं। मिसीसिपी नदी के अधिकतर पूर्वी क्षेत्रों पर शीतकालीन तूफान का असर पड़ा है और तूफान अब पूर्वोत्‍तर अमरीका की ओर बढ रहा है।
  •  राजस्थान में  हाल ही में कॉन्ट्रेक्टर पर काम कर रहे रिटायर्ड अधिकारियों और कर्मचारियों की सेवा को समाप्त करने का फैसला लिया गया था. अब सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है जिसके तहत राजस्थान के सभी मनोनित पार्षदों को निरस्त कर दिया है.

    राजस्थान सरकार ने 10 जनवरी 2024 को एक आदेश जारी किया है जिसमें कहा गया है कि राजस्थान के सभी मनोनीत पार्षदों के मनोनयन को निरस्त कर दिया गया है. ये आदेश स्वायत्त शासन विभाग ने जारी किया है.जारी किये गए पत्र में कहा गया है कि, राजस्थान नगर पालिका अधिनियम, 2009 की धारा 6 की उपधारा (1) के खण्ड (क) के परन्तुक (ii) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए राज्य सरकार राज्य की समस्य नगर निगम, नगर परिषद और नरगपालिकाओं में मनोनित किये गए सदस्यों (सहवृत) सदस्यों को एतद् द्वारा तत्काल प्रभाव से उनका मनोनय निरस्त कर उन्हें (सहवृत्त) सदस्य से हटाया जाता है.पत्र में यह भी लिखा गया है कि राज्यपाल के आज्ञा से इस फैसले को जारी किया गया है.

    दूसरी ओर प्रशासनिक सेवा में भी फेरबदल को लेकर  सरकार ने फैसला किया है. 10 जनवरी को 40 IAS अधिकारियों का ट्रांसफर किया गया है. इससे पहले 5 जनवरी को 72 आईएएस और 121 आरएएस अधिकारियों का तबादला किया गया था.अब सरकार ने एक बार फिर बड़ा प्रशासनिक फेरबदल करते हुए 40 IAS अधिकारियों के तबादला किया है. साथ ही 16 IAS अधिकारियों को अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.तबादले के बाबत कार्मिक विभाग ने आदेश जारी कर दिए है.

    22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले अयोध्या में आज से नियमित विमान सेवा शुरू हो गई है. अयोध्या से दिल्ली के लिए नियमित विमान सेवा शुरू हो गई है. फिलहाल 2 विमान सेवा नियमित रूप से जारी रहेगी. आने वाले दिनों में 6 और विमान से एयरपोर्ट लैस होगा. बता दें पहला विमान 1.15 बजे दिल्ली से अयोध्या पहुंचेगा. वहीं दूसरा विमान 1.30 बजे दिल्ली रवाना होगा.

    अयोध्या में 22 जनवरी को नए मंदिर में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। आम जनमानस के लिए प्राण प्रतिष्ठा के अगले दिन यानी 23 जनवरी से प्रवेश मिलेगा। 22 जनवरी की दोपहर नवनिर्मित मंदिर में राम लला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। इस दिन देशभर से अध्यात्म, सिनेमा, खेल, विज्ञान और सियासत से जुड़ी लोग कार्यक्रम में सम्मलित होंगे। इससे पहले पवित्र नगरी को भव्य और दिव्य बनाया जा रहा है। मंदिर तक जाने वाले सड़क और यहां पड़ने वाले चौराहों को बेहद आकर्षक ढंग से सजाया जा रहा है। आम जनता के लिए भगवान के दरबार 23 जनवरी से खुलेंगे।

    अयोध्या में 22 जनवरी को नए मंदिर में भगवान राम के बाल रूप यानी राम लला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। इसके लिए वैदिक अनुष्ठान मुख्य समारोह से एक सप्ताह पहले 16 जनवरी को शुरू हो जाएंगे। 16 जनवरी के दिन मंदिर ट्रस्ट की तरफ से नियुक्त यजमान प्रायश्चित समारोह का आयोजन करेंगे। इसके अलावा सरयू नदी के तट पर ‘दशविध’ स्नान होगा जिसमें विष्णु पूजा और गोदान जैसे अनुष्ठान भी शामिल होंगे।

    22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा में शामिल होने वाले मेहमानों को सुबह 11 बजे से पहले कार्यक्रम स्थल पर पहुंचना होगा। प्रवेश के लिए आगंतुकों को आमंत्रण पत्र और आधार कार्ड दिखाना आवश्यक होगा। राम मंदिर ट्रस्ट ने फिलहाल कोई ड्रेस कोड नहीं तय किया है। इलेक्ट्रॉनिक सामान और प्रसाद को अंदर ले जाने की अनुमति नहीं होगी।

    22 जनवरी को भगवान राम नए राम मंदिर में विराजमान होंगे। काशी के वैदिक विद्वान प्राण-प्रतिष्ठा समारोह करेंगे। सुबह रामलला के विग्रह की पूजा की जाएगी और दोपहर में दोपहर 12:15 बजे से 12:45 बजे के बीच भगवान राम को मंदिर में विराजमान किया जाएगा। पीएम के हाथों श्रीराम लला के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा होगी। रामलला रामनगरी की पंचकोसी परिक्रमा करेंगे, अयोध्या के मंदिरों में दर्शन-पूजन करेंगे।

    आम जनमानस के लिए प्राण प्रतिष्ठा के अगले दिन यानी 23 जनवरी से प्रवेश मिलेगा। इससे पहले प्रधानमंत्री ने कहा था कि 22 जनवरी को अयोध्या आने का प्रयास न करें, इसकी जगह जब अयोध्या में प्रभु श्रीराम विराजमान हों, तो सभी लोग दीपावली मनाएं और अपने अपने घरों में श्रीरामज्योति जलाएं। 22 की शाम पूरा हिंदुस्तान जगमग होना चाहिए। उन्होंने अपील की थी कि जब हमने साढ़े पांच सौ साल इंतजार किया है तो कुछ दिन और इंतजार करना होगा। सुरक्षा और व्यवस्था के लिहाज से अयोध्या आने में जल्दबाजी ना दिखाएं क्यों कि अब यहां श्रीराम का मंदिर अनंतकाल तक रहेगा।

    प्रवेश द्वार में सिंह द्वार से होकर 32 सीढ़ियां हैं, जो गर्भगृह तक जाती हैं। यहां रामलला के 30 फीट की दूरी से दर्शन किए जा सकते हैं। मंदिर के चारों तरफ आयताकार परकोटा रहेगा।

    रामलला के अभिषेक समारोह 22 जनवरी से पहले ही राम जन्मभूमि मंदिर में ‘आरती’ पास लेने के लिए बुकिंग से शुरू हो चुकी है। दिन में तीन बार (सुबह 6:30 बजे, दोपहर 12:00 बजे और शाम 7:30 बजे) भगवान राम की आरती की जाएगी। आरती में शामिल होने के लिए ट्रस्ट द्वारा बनाए गए पास की आवश्यकता होती है, जिसके लिए आपको आईडी प्रूफ देना होगा।

    आरती के लिए पास लेने की प्रक्रिया क्या है?

    इन तरीकों से भक्त पास ऑनलाइन बुक कर सकते हैं।
    – श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र की आधिकारिक वेबसाइट srjbtkshetra.org को विजिट करें
    – अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें और ओटीपी के जरिए लॉग इन करें
    – ‘आरती’ सेक्शन पर क्लिक करें
    – तारीख, आरती का प्रकार चुनें जिसमें आप शामिल होना चाहते हैं
    – अपना नाम, पता, फोटो, मोबाइल नंबर दर्ज करें
    – मंदिर काउंटर से पास प्राप्त करें

    मंदिर परिसर में दिव्यांग और बुजुर्ग तीर्थयात्री के लिए भी विशेष सुविधाएं हैं। रैंप और लिफ्ट भी हैं। मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि मंदिर के पास एक ऐतिहासिक कुआं (सीता कूप) है, जो प्राचीन काल का है। इसके अलावा, 25,000 लोगों की क्षमता वाला एक तीर्थयात्री सुविधा केंद्र (पीएफसी) का निर्माण किया जा रहा है। यह तीर्थयात्रियों के लिए चिकित्सा सुविधाएं और लॉकर सुविधा प्रदान करेगा।

    राम मंदिर को नागर शैली में बनाया जा रहा है। इसका गर्भगृह और भी खास और अनोखा है। मंदिर का गर्भगृह अष्टकोण में है और इसे इस तरह से बनाया गया है कि हर साल रामनवमी के दिन दोपहर 12 बजे सूर्य की किरणें गर्भगृह में विराजमान श्रीराम की मूर्ति पर पड़ेंगी। मंदिर की परिक्रमा गोलाई में बनाई गई है। इसके भूतल पर पांच मंडप बनाए गए हैं, जिनमें गृह मंडप, कीर्तन मंडप, नृत्य मंडप, रंग मंडप और प्रार्थना मंडप शामिल हैं। फिलहाल मंदिर की पहली मंजिल फर्श और प्रवेश द्वार पूरी तरह से तैयार है। जहां भगवान राम के बाल स्वरूप की प्राण प्रतिष्ठा होगी वह गर्भगृह भी तैयार हो चुका है। दूसरी और तीसरी मंजिल निर्माणाधीन है।

    राम मंदिर परिसर के चारों कोनों पर चार मंदिर होंगे, इनमें सूर्य देव, देवी भगवती, गणेश भगवान और भगवान शिव को समर्पित होंगे। उत्तरी भुजा में मां अन्नपूर्णा का मंदिर, जबकि दक्षिणी भुजा में हनुमान जी का मंदिर है। परिसर में प्रस्तावित अन्य मंदिर महर्षि वाल्मिकी, महर्षि वशिष्ठ, महर्षि अगस्त्य, महर्षि विश्वामित्र, निषाद राज, माता शबरी और देवी अहिल्या की पूज्य पत्नी को समर्पित रहेंगे। मंदिर परिसर के दक्षिण-पश्चिमी भाग में कुबेर टीला पर जटायु की स्थापना के साथ-साथ भगवान शिव के प्राचीन मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया है।

    रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के बाद देशभर से श्रद्धालु अयोध्या पहुंचेंगे। इसे ध्यान में रखकर देश के सभी जोनल रेलवे क्षेत्र से ट्रेनें चलाई जाएंगी। इसका नाम आस्था स्पेशल ट्रेन रखा गया है। अब रेलवे ने इन ट्रेनों की सुरक्षा को लेकर भी सतर्क हो गया है। रेलवे बोर्ड ने सभी जोन के डीआरएम, सभी सुरक्षा एजेंसियों को कड़े इंतजाम करने के निर्देश दिया है।

    रेलवे ने आस्था स्पेशल ट्रेन की पूरी निगरानी का जिम्मा रेलवे सुरक्षा बल एवं राजकीय रेल थाने की पुलिस को दिया गया है। रेलवे बोर्ड ने साफ निर्देश दिया है कि ट्रेन की सुरक्षा को लेकर किसी तरह की कोताही नहीं बरती जाएगी। जिस-जिस स्टेशन से आस्था स्पेशल ट्रेनें गुजरेंगी, उन स्टेशनों से रेल पुलिस उसे सुरक्षित पास कराएगी। बोर्ड ने सभी रेलवे स्टेशनों पर लगे सीसीटीवी कैमरों को भी दुरुस्त करने के लिए कहा है।

    रेलवे ने आस्था स्पेशल ट्रेनों के चलाने का जिम्मा इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कारपोरेशन (आईआरसीटीसी) को दिया गया है। इसका टिकट भी आइआरसीटीसी द्वारा ही जारी किया जाएगा। आस्था स्पेशल ट्रेन का पीआरएस में डाटाबेस प्रोफाइल नहीं दिखेगा। इस ट्रेन में खान-पान की सारी व्यवस्था आईआरसीटीसी के द्वारा की जाएगी।

    राजस्थान में ने लोकसभा चुनाव में एक बार फिर सभी 25 सीट जीतने के लिए अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर खास अभियान बनाया है।
    इसके तहत प्रदेश की सभी 200 विधानसभा सीटों से 100-100 यानी कुल 20 हजार लोगों को अयोध्या ले जाकर रामलला के दर्शन कराए जाएंगे। यह अभियान 2 महीने 14 जनवरी से 15 मार्च तक चलेगा। पार्टी ने इस अभियान के लिए सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में प्रभारी भी नियुक्त कर दिए हैं।
    इस अभियान में अपने-अपने कार्यक्षेत्र में चर्चित, लेकिन गैर विवादित लोगों को राम मंदिर दर्शन कराने लेकर जाएगी, जिनका विभिन्न सामाजिक वर्गों समुदायों में अपना खास प्रभाव है।
    खेल ■ विभिन्न खेलों में राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी
    कलाकार ■ चित्र, नृत्य, मांडना, गीत-संगीत, अभिनय, रामलीला, मूर्तिकला आदि क्षेत्रों के प्रतिष्ठित कलाकार
    धार्मिक ■ विभिन्न समाजों से जुड़े धार्मिक संगठनों के नेता, आचार्य, मठाधीश, सेवादार, पीठाचार्य जैसे लोग जिनका प्रभाव क्षेत्र                     के धार्मिक संगठनों समुदायों में है
    सामाजिक नेता ■ क्षेत्र में कार्यरत कई तरह के सामाजिक संगठनों के नेता जो लंबे समय से विभिन्न सामाजिक गतिविधियों का                                संचालन कर रहे हैं
    विद्वान – विशेषज्ञ ■ विधि, पत्रकारिता, शिक्षण, भाषा, साहित्य, चिकित्सा, सेना आदि से जुड़े विषयों के विद्वान – विशेषज्ञ
    राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता ■ भारत रत्न सहित विभिन्न पद्म पुरस्कारों और अन्य राष्ट्रीय महत्व के पुरस्कारों से सम्मानित लोग
    महिलाएं ■ विभिन्न कार्यक्षेत्रों में उपलब्धियां हासिल करने वाली महिलाएं
    भामाशाह ■ संबंधित विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न सामाजिक कार्यों में भामाशाह (दानदाताओं) की भूमिका निभाने वाले लोग
    कारसेवकों और आपातकाल के मीसाबंदियों की विशेष श्रेणी
    राम मंदिर दर्शन के लिए अयोध्या ले जाए जाने वाले लोगों में एक खास श्रेणी उन लोगों की भी हैं, जो दिसंबर, 1992 में राजस्थान सहित देश के विभिन्न प्रदेशों से वहां गए थे । ऐसे सभी कारसेवकों की जानकारी भी जुटाई जा रही है। अधिकांश आज भी भाजपा या राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से किसी न किसी तरह से जुड़े हुए हैं।
    इनके अलावा जब तत्कालीन सरकार ने देश में आपातकाल (जून, 1975) लागू किया था, तब जो लोग आपातकाल के विरोध में जेल गए थे, उन पर मीसा एक्ट लागू किया गया था। वे मीसाबंदी कहलाते हैं।
    जब वर्ष 2003-08 और 2013-18 में राजस्थान में भाजपा की सरकार थी, तब उन सभी मीसाबंदियों के लिए मासिक पेंशन भी शुरू की गई थी। जिसे कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया था। उन सभी मीसाबंदियों को भी अयोध्या ले जाया जाएगा।
    अयोध्या ले जाने के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र से 100 लोगों का चयन पार्टी के कार्यकर्ताओं की सूचनाओं के आधार पर किया जाएगा। अधिकांश सूचियां बन गई हैं, जिन्हें जल्द ही पार्टी मुख्यालय के स्तर पर फाइनल कर लिया जाएगा। विशेष ट्रेनों का प्रबंध किया जाएगा। साथ ही कुछ अन्य सुविधानजक विकल्पों – वाहनों पर भी विचार किया जा रहा है।
    अयोध्या किसी भी जाति-धर्म के लोग जा सकते हैं । इस अभियान के तहत विभिन्न कार्यक्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वालों का चयन किया जाएगा।
    अयोध्या में 22 जनवरी को और श्रीरामलला के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की सिर्फ उत्तर प्रदेश और देश में ही नहीं, बल्कि यूरोप से लेकर अमेरिका तक धूम है। ये उत्सव अमेरिका के टाइम्स स्क्वायर से लेकर यूरोप के एफिल टावर तक देखने को मिलेंगे।
    मिली जानकारी के अनुसार फ्रांस की राजधानी पेरिस में 21 जनवरी को राम रथ यात्रा का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें पूरे यूरोप से एक हजार लोग एकत्रित होंगे। साथ ही एफिल टावर के पास उत्सव मनाया जाएगा। इसी तरह अमेरिका में टाइम्स स्क्वायर पर 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा।

    नॉर्थ अमेरिका से लेकर कनाडा तक के मंदिरों में पूजन व दीपोत्सव के आयोजन का फैसला लिया गया है। यही नहीं, अमेरिका में कैलिफोर्निया के साथ ही वाशिंगटन, शिकागो और अन्य शहरों में विशाल कार रैली का आयोजन किया जा रहा है।

    प्राण प्रतिष्ठा भारतीय समयानुसार दोपहर लगभग 12.30 बजे होगी। उस समय पेरिस में सुबह और अमेरिका में देर रात का समय होगा। इसी क्रम में 21 जनवरी 2024 को पेरिस में राम रथ यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर पेरिस में रहने वाले यूजर ने राम रथ यात्रा के बारे में डिटेल साझा की है।

    उन्होंने लिखा है, ”फ्रांस में रहने वाले हम भारतीय पूरे पेरिस में राम रथ यात्रा और एफिल टावर पर बड़े पैमाने पर उत्सव का आयोजन करके अयोध्या में श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण अवसर पर शामिल होंगे।”

    यूजर  ने अपनी पोस्ट में राम रथ यात्रा का पूरा मैप भी शेयर किया है। पेरिस में रहने वाले राम भक्तों से इस आयोजन में सम्मिलित होने का अनुरोध भी किया है। उनकी पोस्ट को राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ने भी रीपोस्ट किया और लिखा कि अयोध्या में जन्मस्थान पर भगवान श्री रामलला सरकार की प्राण प्रतिष्ठा का साक्षी बनना सभी रामभक्तों के लिए एक आशीर्वाद है।

    अमेरिका से लेकर कनाडा तक के मंदिरों में पूजन व दीपोत्सव के आयोजन का निर्णय लिया गया है। कई हफ्तों में वाशिंगटन, शिकागो और दूसरे अमेरिकी शहरों में राम मंदिर के जश्न में कार रैलियां निकाली गई हैं। आयोजकों ने अब कैलिफोर्निया में कार रैली निकालने की योजना बनाई है। उनका कहना है कि वे अयोध्या नहीं आ सकते हैं, लेकिन, भगवान राम उनके दिलों में हैं और उनकी घर वापसी में उनकी अटूट श्रद्धा है।

    यही नहीं, 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का लाइव टेलीकास्ट न्यूयॉर्क शहर के टाइम्स स्क्वायर पर भी किया जाएगा। इससे पहले 5 अगस्त 2020 को राम मंदिर के भूमि पूजन को चिन्हित करते हुए टाइम्स स्क्वायर पर राम मंदिर का एक डिजिटल बिलबोर्ड चलाया गया था।

    अयोध्या राम मंदिर के उद्घाटन पर न्यूयॉर्क शहर के मेयर  ने कहा, ”अगर हम न्यूयॉर्क शहर में हिंदू समुदाय को देखें तो यह कार्यक्रम बेहद महत्वपूर्ण है। यह उन्हें जश्न मनाने और अपनी आध्यात्मिकता को ऊपर उठाने का मौका देता है।”

    विश्व हिंदू परिषद ने भी कई देशों में आयोजन की रूपरेखा तैयार की है। इसके अनुसार दुनिया के 50 से ज्यादा देशों में बड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। इन स्थानों पर प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम को लाइव दिखाया जाएगा। अमेरिका में 300, ब्रिटेन में 25, ऑस्ट्रेलिया में 30, कनाडा में 30, मॉरीशस में 100 के अलावा आयरलैंड, फिजी, इंडोनेशिया और जर्मनी जैसे 50 से अधिक देशों में बड़े पैमाने पर रामलला प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा।

    अमेरिका, कनाडा, जर्मनी, फिजी जैसे 50 देशों के प्रतिनिधियों को भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के मौके पर अयोध्या आने का निमंत्रण भी दिया गया है। वहीं, मुस्लिम बाहुल्य देश इंडोनेशिया, सऊदी अरब में भी लाइव स्ट्रीमिंग की जाएगी। विहिप के अनुसार दुनिया के 160 ऐसे देश हैं, जहां हिंदू धर्म के लोग रहते हैं, वहां विभिन्न कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों में शोभायात्रा, हवन पूजन, हनुमान चालीसा पाठ और मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की लाइव स्ट्रीमिंग दिखाने की तैयारी है।

     इस वर्ष पौष अमावस्या यानि बकुला अमावस्या 11 जनवरी, गुरुवार को है। पौष माह की अमवास्या तिथि 10 जनवरी को रात 08 बजकर 11 मिनट में शुरू होगी और 11 जनवरी शाम 05 बजकर 27 मिनट तक रहेगी। ऐसे में उदयातिथि के अनुसार अमावस्या 11 जनवरी को है। इस माह में शुभ और मांगलिक कार्य मकर संक्रांति तक वर्जित होते हैं। धार्मिक और आध्यात्मिक चिंतन के लिए ये महीना उत्तम माना गया है। शास्त्रों के अनुसार इस माह को ‘छोटा श्राद्ध पक्ष’भी कहा जाता है। पौष माह में पितरों के लिए पूजा और धार्मिक कार्य करने का प्रावधान है। इस माह में पितरों के लिए तर्पण और पिंडदान के साथ-साथ भगवान विष्णु और सूर्य की पूजा का भी विशेष महत्व होता है।

    उदयपुर के होटल  में  बॉलीवुड स्टार आमिर खान की बेटी आयरा खान और फिटनेस ट्रेनर नुपुर शिखरे शादी के बंधन में बंधे। दोनों ने वाओ सेरेमनी में सात वचन लिए। आयरा व्हाइट ब्राइडल गाउन में दिखाई दी। वहीं, नुपुर शिखरे पेंट सूट में दिखे। रॉयल वेडिंग में होटल  को व्हाइट थीम से सजाया गया था।

     

    उदयपुर टेल्स की ओर से तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय ‘उदयपुर स्टोरी फेस्टिवल’ 12 से 14 जनवरी तक शिल्पग्राम स्थित पार्क  में होगा, जिसमें देशभर के कई आर्टिस्ट कहानियां सुनाएंगे।  फेस्टिवल में समकालीन, रोमांस, ऐतिहासिक, रहस्य, थ्रिलर, कावड़ और लोक जैसी कई कहानी शैलियों को बताया जाएगा।फिल्म अभिनेता गौतम अग्रवाल, सैयद साहिल आगा, गौतम मुखर्जी और

    उस्ताद राशिद खान  भारतीय शास्त्रीय संगीत के कलाकार थे ये रामपुर-सहास्वन घराने से थे। इन्हे पद्म श्री व संगीत नातक अकादमी पुरस्कार मिल चुका है।
    उस्ताद राशिद खान का जन्म 1 जुलाई 1966 को बदायूं उत्तर-प्रदेश में हुआ था। वह गुलाम मुश्तफा खान के भतीजे हैं। उन्होंने अपने संगीत की शिक्षा अपने मामा निसार हुसैन खान से ग्रहण की राशिद खान ने अपने करियर की शुरुआत महज 11 वर्ष की उम्र से आकर दी। उन्होंने अपना पहला सिंगिंग कंसर्ट महज ग्यारह वर्ष की उम्र में किया था। ये रामपुर-सहास्वन घराबे से ताल्लुकात रखते हैं। वह तराना में पूर्ण पारंगत थे। वह हमेशा संगीत के साथ नये-नये प्रयोग करते रहै। उन्होंने हिंदी सिनेमा में बेहद बेहतरीन गानों में अपनी आवाज संगीत दिया हैं। जिसे दर्शकों और आलोचकों द्वारा बेहद सराहा गया।

    संगीत की दुनिया के सरताज उस्ताद राशिद खान का मंगलवार को निधन हो गया। वे 55 साल के थे। उन्होंने कोलकाता के एक निजी अस्पताल में दोपहर 3:45 बजे आखिरी सांस ली। लंबे समय से वे प्रोस्टेट कैंसर से जूझ रहे थे। उस्ताद राशिद खान पर इलाज का अच्छा असर हो रहा था। लेकिन मंगलवार को उनकी तबीयत अचानक बिगड़ी। उन्हें वेंटिलेटर स्पोर्ट पर रखा गया लेकिन बचाया नहीं जा सका। बीमारी के बावजूद राशिद खान की दिनचर्या में बदलाव नहीं आया था। वे अस्पताल में भी रियाज किया करते थे।

  • शेयर मार्केट में बुधवार को निचले स्तरों से रिकवरी हुई और सेंसेक्स 271 अंक चढ़कर 71,657 के लेवल पर क्लोज़ हुआ, जबकि निफ्टी 74 अंक चढ़क्र 21619 के लेवल पर
  • ।उदयपुर में दोनों कीमती धातुओं के भाव इस प्रकार रहे
  •  देश भर में आज सोना-चांदी सस्ता हो गया है. आज  देश में 24 कैरेट सोने की कीमत  170 रुपये यानी 0.27% घटकर 62,250 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई है जबकि 22 कैरेट सोने की कीमत 57,020 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई है. बीते दिन 24 कैरेट सोना 0.35% की बढ़त के साथ 62,420 और  22 कैरेट सोना  57,170 रुपये प्रति 10 ग्राम पर मिल रहा था.वहीं, आज चांदी  भी सस्ती हो गई .आज चांदी की कीमत 0.70% यानी 500 रुपये प्रतिकिलो घटकर 71,300 रुपये प्रतिकिलो हो गई है जो कि  बीते दिन यह 7,1800 रुपये प्रतिकिलो थी.आपको बता दें कि 24 कैरेट सोने को सबसे शुद्ध (99.9 प्रतिशत) माना जाता है. 24 कैरेट सोने का इस्तेमाल सोने का सिक्का और बार  बनाने में किया जाता है. इसमें कोई अन्य मेटल नहीं मिलाया जाता है. जबकि 22 कैरेट सोना ज्वैलरी बनाने के लिए बेहतर माना जाता है.
  • सोना 22 कैरेट 1 ग्राम₹  5874 सोना 24 कैरेट 1 ग्राम ₹ 6188
    चांदी 1 किलो बार का भाव रहा ₹₹ 77500
  • मौसम
  • कश्मीर में न्यूनतम तापमान के कई डिग्री नीचे गिर जाने के बाद भी मौसम शुष्क बना हुआ है और बर्फबारी नहीं हुई है. मौसम शुष्क रहने के कारण रात में ठंड बढ़ गई है जबकि दिन औसतन तापमान की तुलना में गर्म हैं. श्रीनगर में अधिकतम तापमान 14.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो इस मौसम के औसतन तापमान से 8.1 डिग्री अधिक है.

    श्रीनगर की तुलना में जम्मू अधिक ठंडा रहा जहां अधिकतम तापमान 11.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से 6.5 डिग्री कम था. जम्मू घने कोहरे की गिरफ्त में है जिससे दिन में अधिक ठंड महसूस की जा रही है.

    श्रीनगर शहर में मंगलवार रात न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

    काजीगुंड में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया वहीं उत्तरी कश्मीर के गुलमर्ग के  रिजॉर्ट में इस दौरान न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो बीती रात के तापमान से कुछ कम है. दर्ज किया गया.कश्मीर वर्तमान में ‘चिल्लई-कलां’ की चपेट में है. यह 40 दिनों की भीषण सर्दी की अवधि है. इस दौरान क्षेत्र में शीत लहर चलती है और तापमान बेहद नीचे चला जाता है. इस दौरान प्रख्यात डल झील सहित सभी जल स्रोत जम जाते हैं. इस अवधि के दौरान बर्फबारी की आशंका सबसे अधिक होती है और ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी भी होती है.

  • उदयपुर में  पिछले 24 घंटों के दौरान  तापमान रहा अधिकतम 25 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम  9  डिग्री सेल्सियस
  • तो ये थीं अब तक की अपडेट्स हम फिर आएंगे और अपडेट्स लेकर बने रहिए हमारे साथ…

Leave a Reply

Your email address will not be published.